पटना [जेएनएन]। बेऊर जेल के कैदी वाहन में बम विस्फोट कांड में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है। इस घटना में दो सिपाही ऐनुल अंसारी और विद्यासागर राय को गिरफ्तार किया गया है। दोनों को कैदी वैन मामले में अपराधी की योजना करने के आरोप में बेऊर थाना पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार किया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दोनों सिपाहियों ने इस पूरी वारदात को सफल बनाने के लिए घूस के तौर पर रुपये लिए थे। उन्होंने बिना किसी जाच के ही वैन के अंदर हथियार और विस्फोटक ले जाने की इजाजत दे दी थी। गौर हो कि राजधानी पटना में दो कुख्यात बंदियों सोनू और सिकंदर ने मंगलवार को भागने की कोशिश में कैदी वाहन में ही चार बम फोड़ दिए थे। हालाकि, वाहन चालक हवलदार राम अयोध्या सिंह की सूझबूझ से वह भाग नहीं पाए। चालक ने दो किलोमीटर का रास्ता तय कर बेऊर जेल गेट पहुंचाकर ही वाहन रोका था। जब तक थाना पुलिस और आला अफसर मौके पर नहीं पहुंचे, पुलिसकर्मियों ने मोर्चा संभाले रखा और वैन का ताला नहीं खोला। वरिष्ठ अधिकारियों के पहुंचने पर एक-एक कर वैन से बंदियों को बाहर निकाला गया। एटीएस की बम स्क्वॉयड ने वैन की तलाशी ली। वाहन के अंदर से देसी जिंदा बम, रिवॉल्वर और पाच कारतूस बरामद किए गए थे। तीन गोलिया रिवॉल्वर में लोड थीं, जबकि दो कारतूस फर्श पर मिले थे। एटीएस के जवानों ने जिंदा बम को निष्क्रिय कर दिया था। दोनों अपराधियों ने वैन में एक के बाद एक चार बम फोड़े थे। वह वाहन के रुकने और दरवाजा खुलने के इंतजार में थे।

By Jagran