संवाद सूत्र, फुलवारीशरीफ (पटना) : रामकृष्ण नगर और अगमकुआं थानों की सीमा पर बैरिया बस स्टैंड जाने वाले रास्ते में बुधवार रात ताबड़तोड़ 25 राउंड फायरिंग हुई, जिसमें एक यात्री समेत दो बस कर्मी घायल हो गए। हालांकि, सीमा विवाद 24 घंटे बाद भी नहीं सुलझा और दोनों थानों में अब तक कहीं प्राथमिकी नहीं हुई। घायल यात्री को स्वजन बेहतर इलाज के लिए साथ लेकर चले गए। बस कर्मी रमेश को जांघ और चंद्रलोक बस कंपनी के कर्मी सोनू को बांह में गोली लगी है। रमेश का इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है, जबकि सोनू एनएमसीएच (नालंदा मेडिकल कालेज एंड हास्पिटल) में भर्ती है। रामकृष्ण नगर के प्रभारी थानाध्यक्ष रवि रंजन ने बताया कि फायरिंग की सूचना पर पुलिस गई थी। जिस जगह घटना बताई जा रही थी, वो स्थान अगमकुआं थाना क्षेत्र में आता है। वहीं, अगमकुआं थानाध्यक्ष सुधीर कुमार ने कहा कि घटना हमारे क्षेत्र की नहीं है।

वर्चस्व में चार दिनों से हो रही फायरिंग

बताया जाता है कि रामप्रवेश महतो और राजू गोप के बीच वर्चस्व को लेकर चार दिनों से रह-रहकर फायरिंग हो रही है। बुधवार देर रात पटना-गया रोड के मुहाने पर एकाएक गोलियां तड़तड़ाने लगीं। वहां कई बसों का पड़ाव होता है। घटना के वक्त काफी लोग बस पकड़ने के लिए खड़े थे। फायरिंग होते ही अफरा-तफरी मच गई। घायल सोनू ने बताया कि पहाड़ी मोड़ पर पूरब और पश्चिम दोनों ओर से गोलियां चल रही थीं। करीब 20 से 25 राउंड फायरिंग हुई है। एक यात्री को गोली लगी तो उसके साथ रहे लोग चीखने-चिल्लाने लगे। वहीं, एक आटो खड़ी थी, जिस पर उसे लादकर कहीं चले गए। सोनू को उसके सहयोगियों ने एनएमसीएच में भर्ती कराया। गुरुवार को अस्पताल में उसका बयान लेने भी कोई नहीं आया।

बसों के शीशे भी हो गए क्षतिग्रस्त

फायरिंग में चंद्रलोक ट्रेवल्स के अलावा कई कंपनियों की बसों के शीशे क्षतिग्रस्त हो गए। प्रत्यक्षदर्शियों ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि वारदात के बाद पुलिस की गश्ती जीप पहुंची थी। उन्होंने खुद को अगमकुआं थाने का बताया। इसके बाद घटनास्थल रामकृष्ण नगर थाना क्षेत्र का होने की बात कहकर निकल गए। सूत्रों की मानें तो बसों से पड़ाव और सुरक्षा के नाम पर वसूली के लिए कई गिरोह सक्रिय हैं। अकसर, वर्चस्व को लेकर इस इलाके में मारपीट व फायरिंग की घटनाएं होती रहती हैं। कुछ दिन पहले बाइक सवार तीन युवक सड़क दुर्घटना में घायल हो गए थे। उनके पास से पिस्तौल और कई राउंड कारतूस बरामद हुए थे। छानबीन में मालूम हुआ कि वे दहशत फैलाने के लिए बैरिया बस स्टैंड जा रहे थे, मगर रास्ते में दुर्घटनाग्रस्त हो गए।

Edited By: Akshay Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट