पटना, राज्य ब्यूरो। Paddy Procurement in Bihar: एक नवंबर से बिहार में होने वाली धान खरीद की तैयारियां अंतिम चरण में है। पैक्सों से लेकर व्यापार मंडलों तक को धान खरीद संबंधी गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित करने को कहा गया है। राज्य में कुल 8463 पैक्स हैं इनमें से 8 हजार पैक्स में धान खरीद शुरू होगी। पैक्स/व्यापार मंडल में धान खरीद की सख्ती से निगरानी कराने निर्देश जिलाधिकारियों को दिया गया है। सहकारिता विभाग की सचिव वंदना प्रेयसी ने दावा किया कि राज्य में धान खरीद की तैयारियां अंतिम चरण में हैं। आठ हजार पैक्सों में धान खरीद होगी। इसके लिए संबंधित पैक्सों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया गया है। किसानों और पैक्सों के बीच बेहतर समन्वय बनाने हेतु जिलों के अधिकारियों को निर्देश दिया गया है।

किसानों एवं पैक्सों के बीच बेहतर समन्वय की होगी व्यवस्था

धान खरीद में किसानों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो, इसे ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने किसानों और पैक्सों के बीच बेहतर समन्वय बनाने की व्यवस्था करने का निर्देश जिलाधिकारियों को दिया है। यदि पैक्सों द्वारा किसानों को किसी प्रकार का भयादोहन की शिकायत मिलेगी तो जांच में दोषी पैक्सों पर प्राथमिकी दर्ज करायी जाएगी। कृषि विभाग से साढ़े सात लाख ज्यादा निबंधित किसान हैं। अभी 31 अक्टूबर तक कृषि विभाग के पोर्टल पर किसान निबंधन करा रहे हैं। जितने किसान निबंधित होंगे, उन सभी से धान खरीद होगी। सरकार ने नीति के तहत एक ही जगह से निबंधित किसानों से धान अधिप्राप्ति का फैसला लिया है। इसका भी ध्यान रखा जाएगा कि धान खरीद के बाद किसानों के भुगतान में बेवजह विलंब नहीं हो।

17 फीसद नमी पर धान खरीद

केंद्र सरकार द्वारा तय न्यूनतम समर्थन मूल्य 1940 रुपये प्रति क्विंटल की दर से  धान खरीद होगी। धान खरीद में 17 फीसद नमी मान्य है। यह आदेश पैक्सों को भी है। यदि नमी के नाम पर किसानों को परेशान किया जाएगा या ज्यादा प्रति क्विंटल कमीशन लिया जा रहा है तो यह अपराध माना जाएगा। इसके लिए जो भी जिम्मेवार होंगे, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। ज्यादा नमी का बहाना बनाकर कोई पैक्स या व्यापार मंडल कमीशन नहीं ले सकता। किसान को भी कोई कमीशन नहीं देना है। किसान अफसरों से लिखित शिकायत पर कार्रवाई होगी।