पटना [जेएनएन]। अब देश के एटीएम अंतर्राष्ट्रीय हैकरों के निशाने पर आ गए हैं। एटीएम कार्ड की क्लोनिंग का मामला प्रकाश में आने के बाद और चीन में हो रही पैसों की निकासी की सूचना ने पुलिस और साइबर एक्सपर्ट्स के होश उड़ा दिए हैं। इस तरह का पहला मामला सामने आने से कोई कुछ बता पाने में भी असमर्थता जता रहे है।

इस बीच बैंक अधिकारियों ने इतना जरूर बताया है कि जिन लोगों का एटीएम कार्ड क्लोन हुआ है बैंक का मुख्यालय सीधे उनसे संपर्क में है।

डिवाइस के जरिए डाटा हैक कर बना रहे एटीएम कार्ड का क्लोन

हैकर्स अब क्लोन एटीएम कार्ड की मदद से अपने देश के साथ ही दूसरे देशों के भी एटीएम से पैसा निकाल रहे है। पुलिस और बैंक को हैरान करने वाली ऐसी घटना पटना सहित अन्य राज्यों के कई थानों में दर्ज हो चुकी है। इसमें दो मामले ऐसे है, जिसमें भारत के उपभोक्ता का क्लोन एटीएम कार्ड बनाकर चीन से पैसा निकाला लिया गया है।

पटना में दर्ज केस की जांच में जुटी पुलिस के लिए अब तक हैकर एटीएम कार्ड की क्लोनिंग कैसे कर रहे और एटीएम का पासवर्ड कहां से चुरा रहे समझ नहीं आ रहा। कोतवाली में दर्ज केस में पुलिस ने जो बैंक स्टेटमेंट निकाला है उसमें पैसा कहां से निकाला गया इसकी जगह सिर्फ सीएनवाई लिखा दिख रहा है। कोतवाली डीएसपी डा.शिब्ली नोमानी ने बताया कि पैसा चीन के एटीएम से निकाला गया है।

एक ही दिन निकाले गए कई जगह से रकम

हैरानी की बात तो यह है कि पटना, यूपी के फरीदाबाद से जिन दो कारोबारियों के खाते से रकम निकाली गई वह 16 सितंबर को ही। दोनों कारोबारियों के खाते एक्सिस बैंक में थे और रकम भी 80-80 हजार निकाली गई थी। रकम चीन के एटीएम से निकाली गई।

वहीं यूपी के देवरिया में भी सितंबर माह में ही क्लोन एटीएम बनाकर खाते से 50 हजार रुपये निकल लिए गए। यह रकम भी चीन के एटीएम से निकाली गई। ऐसे कई जगह मामले दर्ज किये गए है। इंदिरापुरम के गौड़ ग्रीन एवेन्यू सोसायटी में रहने वाली एक महिला के एटीएम से 50 हजार रुपये निकलने का मैसेज आया। पुलिस की जांच में मालूम हुआ कि पैसा चीन के किसी एटीएम बूथ से निकाला गया। यह घटना भी 16 सितंबर की है।

एटीएम में डिवाइस सेट कर रहे हैकर

पुलिस सूत्रों की मानें तो अनुसंधान में अब तक कुछ स्पष्ट तो नहीं हो पाया है, पर साइबर एक्सपर्ट की मानें तो हैकर्स ऐसे एटीएम में, जहां कैमरा और सिक्योरिटी नहीं है वहां अलग से एक डिवाइस लगा रहे है। इससे जब भी कोई एटीएम से पैसे निकालने जाता है तो उसका डाटा डिवाइस में अपने आप स्टोर हो जाता है और बाद में उसी डाटा काइस्तेमाल करके क्लोन एटीएम कार्ड बनाया जा रहा है। पुलिस इस बिन्दु पर भी जांच कर रही है।

पढ़ेंः बीवी ने दी सलाह नेक बनो, शौहर ने दो बच्चों संग पत्नी को जिंदा जलाया

बैंकों की सुस्ती पर सवाल

आरबीआइ की गाइडलाइन के अनुसार सभी एटीएम कार्ड धारकों को अब चिप आधारित एटीएम कार्ड देना है। यह कार्ड वर्तमान एटीएम कार्ड की तुलना में अधिक सुरक्षित है। लेकिन इस बैंकिंग क्षेत्र के जानकारों का कहना है कि सुस्ती की वजह से बड़ी संख्या में पुराना कार्ड ही चलन में है। इस वजह से भी हैकरों को मौका मिल जा रहा है।

पढ़ेंः युवक के अपहरण की कोशिश, पुलिस पहुंची तो रेलवे ट्रैक पर दौड़ाई कार

कहा - एसएसपी ने

कोतवाली पुलिस मामले की जांच कर रही है। बैंक स्टेटमेंट निकाला गया है। चीन के एटीएम से पैसा निकालने की बात सामने आ रही है। लेकिन, कैसे और इसके पीछे कौन लोग है इसके बार में जानकारी जुटाई जा रही है। साइबर एक्सपर्ट से राय लिया जा रहा है।

मनु महाराज, एसएसपी

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस