पटना। मानव श्रृंखला में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रपौत्र तुषार गांधी और जल पुरुष राजेंद्र सिंह भी भाग लेंगे। गांधी मैदान स्थित मुख्य समारोह में हाथ से हाथ पकड़कर मानव श्रृंखला का हिस्सा बनेंगे। 4800 प्रतिभागी गांधी मैदान में भाग लेंगे।

गांधी मैदान में बनने वाली मानव श्रृंखला विहंगम होगी। मुख्यमंत्री के साथ अलग-अलग क्षेत्र के 30 से अधिक रोल मॉडल भाग लेंगे। कई मंत्री, विधायक, राजनेता, समाजिक कार्यकर्ता इसमें शरीक होंगे। ट्रांसजेंडर, स्कूली बच्चे, सभी धर्मो के गुरु, आशा, जीविका दीदियों के साथ जिला, प्रमंडल कार्यालय के कर्मी भी हिस्सा बनेंगे। 10-10 मीटर पर एक झंडा तथा बैलून का गुच्छा रहेगा। जल-जीवन हरियाली लिखे आधा दर्जन बड़े आकार के गुब्बारे आकाश में दिखेंगे। गांधी मैदान में बिहार के नक्शे की आकृति में बनी मानव श्रृंखला से चार टहनियां निकलेंगी। पटना जिले का मेन रूट राजेंद्र पुल (मोकामा) से कोईलवर पुल (बिहटा) तक कुल 167 किमी है। सब रूट 256 किमी तथा अन्य रूट 285 किमी है। प्रत्येक किमी पर एक सेक्टर बनाया गया है, इसमें एक सेक्टर पदाधिकारी एवं एक पुलिस पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गयी है। 200-200 मीटर पर सब सेक्टर होगा, जिसमें एक को-ऑर्डिनेटर एवं एक सब कोऑर्डिनेटर की प्रतिनियुक्त की गई है। प्रत्येक किलोमीटर पर जल, जीवन, हरियाली के दो बैनर रहेंगे। प्रत्येक चौराहे पर मानव श्रृंखला 2020 लिखकर पेंटिंग बनाई जाएगी। गांधी मैदान से राजभवन के सामने राजेंद्र चौक के बीच तीन स्टेज पर कला जत्था के कलाकार अपनी कला की प्रस्तुति देंगे। जीविका दीदियां और आंगनबाड़ी सेविकाएं भी जगह-जगह पर शामिल होंगी। गांधी मैदान से निकलने वाली मानव श्रृंखला मोकामा में बेगूसराय, गांधी सेतु पीपा पुल से वैशाली जिला, जीपी सेतु से सारण जिला, कोइलवर में भोजपुर जिला, पालीगंज से अरवल जिला, गया रोड और पुनपुन रोड की मानव श्रृंखला से जहानाबाद तथा नालंदा जिला को दनियावां, बेल्छी, घोसवरी सहित चार स्थानों पर जुड़ेगी।

-------------

गेट एक : मानव श्रृंखला गांधी मैदान गेट नंबर एक से फ्रेजर रोड, डाकबंगला, बेली रोड, सगुना मोड़, दानापुर आरा गोलंबर, मनेर, बिहटा होते हुए भोजपुर जिले की सीमा तक जाएगी, जबकि पुनाईचक के पास एक टहनी राजधानी वाटिका की तरफ निकलेगी। राजभवन, चिड़ियाघर गेट संख्या दो, चितकोहरा पुल, अनीसाबाद गोलंबर, फुलवारीशरीफ, नौबतपुर होते हुए अरवल जिला के सीमा में प्रवेश कर जाएगी।

गेट नंबर सात : अशोक राजपथ दीदारगंज, फतुहां, खुशरूपुर, बख्तियारपुर, अथमलगोला, बाढ़, पंडारक, मोकामा होते हुए राजेंद्र पुल तक जाएगी। चार जगहों पर नालंदा जिला को जोड़ेगी।

गेट नंबर पांच : दीघा रोड होते हुए आरा गोलंबर दानापुर कैंट के समीप मेन रूट की मानव श्रृंखला से जेपी सेतु के पास एक टहनी निकलेगी और सारण जिला में प्रवेश कर जाएगी।

गेट नंबर 10 : एक्जीविशन रोड फ्लाईओवर से कंकड़बाग, पुराना बाईपास होते हुए जीरो माइल तक एवं वहां से महात्मा गांधी सेतु पीपा पुल (वैशाली जिला की सीमा) तक तथा पटना-गया रोड में संपतचक होते हुए जहानाबाद जिले की सीमा में मिलेगी। इसके पहले चिरैयाटांड पुल से एक टहनी मीठापुर बस स्टैंड होते हुए पुनपुन-मसौढ़ी होते जहानाबाद की सीमा में मिलेगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस