पटना, जेएनएन। उपेंद्र कुशवाहा के विवादास्पद बयान के बाद भभुआ के पूर्व विधायक और लोकसभा चुनाव में बक्सर लोकसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार रामचंद्र यादव ने कैमूर ईवीएम मामले में हथियार लहराते हुए प्रेस कान्फ्रेंस किया और कहा कि लोकतंत्र के लिए हथियार उठाना पड़े तो उठाऊंगा। रिजल्ट फेवर में नहीं आने पर अब लड़ना पड़ेगा, अब चुप बैठने से काम नहीं चलेगा। उनके इस बयान का वीडियो वायरल हो रहा है। उधर इस मामले को बिहार के एडीजी कुंदन कृष्‍णन ने गंभीरता से लिया है तथा उनके बंदूक का लाइसेंस रद्द करने की बात कही है। 

बक्सर से इस बार निर्दलीय लोकसभा चुनाव लड़ने वाले पूर्व विधायक रामचंद्र यादव ने आज भभुआ में अपने घर पर हथियार लहरा कर प्रेस कांफ्रेंस कर ये बातें कहीं। पिस्टल हाथ में लेकर रामचंद्र यादव ने कहा कि कुशवाहा और तेजस्वी के नेतृत्व में लोकतंत्र बचाऊंगा। बता दें कि रामचंद्र यादव पूर्व राजद विधायक रहे हैं और उसके बाद समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे हैं। 

उधर मामले को एडीजी कुंदन कृष्‍णन ने गंभीरता से लिया है। उनकी गिरफ्तारी के आदेश दिए गए हैं। इसके बाद से निर्दलीय प्रत्याशी रामचंद्र यादव फरार है। पुलिस ने रामचंद्र यादव के घर पर छापेमारी भी की। कैमूर में भभुआ के एसडीएम और एसडीपीओ ने छापेमारी की, लेकिन उसकी गिरफ्तारी नहीं हो सकी। वहीं एडीजी मुख्यालय कुंदन कृष्णन ने मीडिया को बताया कि जांच के बाद रामचंद्र यादव के हथियार का लाइसेंस रद्द होगा। एडीजी मुख्यालय ने गिरफ्तारी का आदेश दिया है।

बता दें कि दो साल पहले पूर्व विधायक राजद नेता रामचंद्र यादव को पुलिस ने आचार संहिता उल्लंघन मामले में न्यायालय द्वारा नॉनबेलेबल वारंट जारी होने के बाद गिरफ्तार किया था।  तब राजद कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध करते हुए कहा था कि साजिश के तहत पूर्व विधायक को गिरफ्तार किया गया है। नगर थानाध्यक्ष राकेश कुमार सिंह ने बताया था कि बेल टूटने पर पूर्व विधायक को गिरफ्तार किया गया है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kajal Kumari