पटना, राज्य ब्यूरो। शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान आखिरकार शेर पढऩे की सिचुएशन तलाश ही ली। दरअसल, वे शेर ओ शायरी के लिए भी मशहूर हैं। विधानसभा में मंगलवार को शिक्षा विभाग से जुड़े प्रश्नों का जोर था। वह लगातार जवाब दिए जा रहे थे। उनकी इस अदा पर संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि शिक्षा मंत्री को सदन से बधाई मिलनी चाहिए कि वे इतनी पुरजोर तैयारी के साथ आए हैैं।

माहौल बनेगा तब न पढ़ेंगे शेर

विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने यह जोड़ दिया कि हम सब मंत्री जी की मुस्तैदी के कायल हैैं। इसी बीच कांग्रेस के अवधेश सिंह उठे और कहा कि कुछ शायरी भी सुना दीजिए। विधानसभा अध्यक्ष ने भी कहा- कोई एक सुना दीजिए। मंत्री जी ने परहेज वाले अंदाज में कहा कि माहौल बनेगा तब न पढ़ेंगे शेर। उनके यह कहते ही पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव उठे और कहा- पूरा मंंच तो लूट लिए अब क्या चाहते हैैं? इसके कुछ ही मिनट बाद शिक्षा मंत्री ने जवाब के क्रम में ही कहा- हुजूर सिचुएशन मिल गई है। सुना देते हैैं। उन्होंने पढ़ा- तुम मुखातिब हो, करीब हो, तुमको देखें कि तुमसे बात करें। 

आज सदन के लिए शिक्षित होने का दिन

शिक्षा से जुड़े सवालों की संख्या अधिक होने पर विधानसभा अध्यक्ष ने हंसते हुए कहा- आज सदन के लिए शिक्षित होने का दिन है। राजद के भाई वीरेंद्र ने जोड़ा इसलिए शिक्षा मंत्री तेल लगाकर आए हैैं। शांति से चल रहे प्रश्नकाल के दौरान शिक्षा मंत्री के एक जवाब के दौरान विपक्ष जब शोर करने लगा तो मौज वाले अंदाज में विधानसभा अध्यक्ष ने कहा- अरे भाई शांत हो जाइए, मंत्री जी अब असली बात कहने वाले हैैं। इसका असर यह हुआ कि विपक्ष के लोग शांत हो गए।

सोशल मीडिया बंद हो रहा तो मोदी जी के ट्वीट का क्या होगा

विधानसभा में प्रश्नकाल आरंभ होते ही विपक्ष ने सोशल मीडिया को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्वीट का सहारा लेते हुए उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर चुटकी ली। कहा- सोशल मीडिया बंद हो रहा तो मोदी जी के ट्वीट का क्या होगा? सामने बैठे सुशील मोदी भी मुस्कुराने लगे।

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस