पटना सिटी, जागरण संवाददाता। राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द (President Ram Nath Kovind) के शुक्रवार को तख्त श्रीहरिमंदिर जी पटना साहिब में आगमन को लेकर गुरुद्वारा परिसर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। लेकिन सुरक्षा व्‍यवस्‍था से बंदरों पर कोई असर नहीं पड़ा। गुरुद्वारा परिसर में तैनात महिला पुलिसकर्मी को सुबह सात बजे बंदर ने काट लिया। इस घटना के बाद गुरुद्वारा परिसर की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी सहम गए। जख्‍मी पुलिसकर्मी को इलाज के लिए लंगूर गली में निजी अस्पताल ले जाया गया।वहां जख्‍मी सिपाही का इलाज किया गया।

गुरुद्वारा के आसपास उत्‍पात मचाते हैं बंदर 

दरअसल, चौक थाना क्षेत्र में तथा गुरुद्वारा के आसपास बंदरों का आतंक है। इनके कारण आमलोग भी काफी परेशान रहते हैं। आए दिन बंदर किसी न किसी को काटकर जख्‍मी कर देते हैं। जख्‍मी को एंटी रेबीज सूई लेनी पड़ती है। 350 वें प्रकाशपर्व को लेकर वन विभाग द्वारा बंदरों को पकड़ने का अभियान चलाया गया था। राष्ट्रपति के आगमन को लेकर प्रशासन का ध्यान बंदरों पर नहीं गया। इसका असर हुआ कि राष्‍ट्रपति के वहां आने से लेकर जाने तक सुरक्षाकर्मियों के पसीने छूटते रहे। बंदरों की वजह से अफरातफरी का माहौल बना रहा। 

राष्ट्रपति के लिए बना विशेष लंगर का स्वाद दूसरों ने चखा

राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार तख्त श्रीहरिमंदिर जी पटना साहिब पहुंचे राम नाथ कोविन्द के स्वागत की विशेष तैयारियां की गई थीं। राष्ट्रपति के लिए विशेष लंगर सजाया गया था। प्रबंधक समिति के अध्यक्ष अवतार सिंह हित ने बताया कि प्रसादा के अलावा मटर-पनीर, आलू-गोभी, पुलाव, साबुत दाल, रायता व सलाद बनाया गया था। लंगर की व्यवस्था अतिथिशाला में की गई थी। समयाभाव के कारण बिना लंगर चखे ही राष्ट्रपति चले गए। राष्ट्रपति के जाने के बाद प्रबंधक समिति के पदाधिकारी तथा सुरक्षा में जुटे पदाधिकारियों व अन्य ने अतिथिशाला में लंगर छका। लंगर के खानों की जांच श्री गुरु गोविंद सिंह सदर अस्पताल के डा. सीएम मिश्रा ने किया। उपाधीक्षक डा. अलख प्रसाद के नेतृत्व में सर्जन डा. आरिफ अब्दुल्लाह समेत पूरी टीम मुस्तैद रही। 

Edited By: Vyas Chandra