पटना, जेएनएन। बिहार के आमस के सिहुली गांव के नसरूल्ला खां की पुत्री फरहीन की शादी धूमधाम से संपन्न हुई। घर में खुशी का माहौल था। शादी के बाद सुबह विदाई हुई और दूल्हा उसे लेकर अपने घर को चला ही था कि दुल्हन को कार में ही हिचकी आई और उसने दम तोड़ दिया। अपनी दुल्हन को बांहों में लेकर वह अपने घर नहीं सुपुर्द ए खाक करने पहुंचा। ये देखकर सबकी आंखें भर आईं।

नसरूल्ला खां की पुत्री फरहीन कम्प्यूटर इंजीनियर थी। उसकी शादी सोमवार की रात गया के एमआई प्लाजा में हुई थी। बिहारशरीफ के कलीमुजमां के इंजीनियर पुत्र तौसीफुज्जमा के साथ उसकी शादी हुई थी।

अभी दुल्हन को लेकर दूल्हा दु:खहरनी फाटक के पास ही पहुंचा था कि उसने दम तोड़ दिया। मंगलवार की सुबह नौ बजे विदाई हुई थी। 20 मिनट बाद 9:20 में ही बजे ही दुल्हन फरहीन ने दम तोड़ दिया। बारात तो वापस बिहारशरीफ लौट गई। किन्तु अपनी नई-नवेली दुल्हन की मिट्टी में शामिल होने के लिए दूल्हा अपने माता-पिता व कुछ रिश्तेदारों के साथ ससुराल में ही रुक गया।

फरहीन के घरवालों ने बताया कि रात में पूरे धूमधाम के साथ शादी हुई। सुबह पूरे रस्म के साथ दूल्हा-दुल्हन को विदा किया गया। अभी दूल्हे की गाड़ी विवाहस्थल से महज पांच किलोमीटर आगे गई होगी कि अचानक दुल्हन को हिचकी आयी और दूल्हे की गाड़ी में ही दम तोड़ दिया। पल भर के लिए दुल्हे को भी विश्वास नहीं हुआ।

उसने इसकी जानकारी दुल्हन के घरवालों को दी। इसके बाद उसे गया के निजी अस्पताल ले जाया गया। यहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। मौत का कारण ब्रेन हैमरेज व हार्ट अटैक बताया जा रहा है।

घर वाले लड़की के साथ शादी के लिए रविवार को खुशी-खुशी घर से गया के लिए निकले थे। तब किसी ने इस घटना की कल्पना भी नहीं की थी। दुबई से लड़की के चाचा, मामा, बहनोई, फुफेरे भाई व चाचा  समारोह में शामिल होने आये थे। सबने अपनी ओर से दुल्हा-दुल्हन को गिफ्ट और शुभकामनाएं देकर विदा किया था।

शादी के बाद सभी अपने गंतव्य स्थान पर जाने वाले थे। किन्तु दुल्हन की मौत ने सबको भीतर से तोड़ दिया। उन्होंने बताया कि नसरूल्ला की सबसे छोटी बेटी की शादी होने के कारण वे वर्षों से बाहर रहने के बाद भी समय निकालकर पहुंचे थे। इधर घर व गांव वाले शादी में दूल्हा पक्ष की ओर से आनेवाले कलेर (शादी की मिठाई) व फरही के इंतजार में थे। किन्तु उसकी जगह लड़की का शव देख आवाक रह गये।

मुन्ना खां बताते हैं कि बेटी ने मां को कई अरमान पूरी कराने का वादा कर घर से शादी के लिए निकली थी। उन्हें अभी भी विश्वास नहीं हो रहा कि जिस पुत्री को कुछ ही घंटे पूर्व हाथ पीले कराकर दूल्हे के साथ विदा किया था, घर में उसका शव पड़ा हुआ है। दिल्ली से पहुंची बड़ी बहन का भी रो-रोकर बुरा हाल है।

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप