जागरण ब्यूरो, पटना

बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री (तब प्रधानमंत्री) डा.श्रीकृष्ण सिंह तथा प्रथम वित्त मंत्री डा.अनुग्रह नारायण सिंह की 125 वीं जयंती को सरकार बड़े समारोह के रूप में मनाने की तैयारी में है। आधुनिक बिहार के निर्माण में दोनों महानुभावों की बड़ी भूमिका रही है। राज्य अभिलेखागार ने दोनों के जीवन और क्रियाकलाप के संबंध में काफी सामग्री जुटाई है। दुर्लभ तस्वीरों और भाषणों का संग्रह जुटाया है। बुकलेट का भी प्रकाशन किया है।

श्रीबाबू और अनुग्रह बाबू की 125 वीं जयंती समारोह के मौके पर विभिन्न प्रकार से कार्यक्रम होंगे। इसके लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में 17 सदस्यीय राज्यस्तरीय आयोजन समिति का गठन किया गया है। समिति में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह, शिक्षा मंत्री पीके शाही, कला एवं संस्कृति मंत्री सुखदा पाण्डेय, बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अब्दुल बारी सिद्दीकी, परिषद में विरोधी दल के नेता गुलाम गौस, परिषद में सत्तारूढ़ दल के उप नेता रामाश्रय प्रसाद सिंह, सत्तारूढ़ जदयू के प्रदेश अध्यक्ष सांसद वशिष्ठ नारायण सिंह, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डा. सीपी ठाकुर, राधामोहन सिंह, एनके सिंह, विधायक सदानंद सिंह, विधान पार्षद बासुदेव सिंह, केदार नाथ पाण्डेय और डा.महाचंद्र प्रसाद सिंह समिति के सदस्य बनाए गए हैं। समिति की बैठक में जरूरत के अनुसार अन्य विशिष्ट लोगों को आमंत्रित किया जा सकेगा।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर