पटना, जेएनएन। बिहार में पटना कोरोना का हॉटस्पॉट बना है। शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी दो दिनों की रिपोर्ट में राजधानी में एक साथ रिकॉर्ड तोड़ 561 कोरोना संक्रमित मिले हैं। कोरोना काल में ये पटना से एक में मिले सबसे अधिक संक्रमित हैं। जबकि बिहार में आज 1820 नए कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इधर, पाटलिपुत्र लोकसभा सीट से सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। रामकृपाल के साथ उनकी पत्नी और एक सहयोगी भी कोरोना निगेटिव हो गए हैं। पटना में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 5347 हो गया है। 

बिहार में संक्रमितों के मामले में टॉप पर पटना

स्वास्थ्य विभाग की ओर से शुक्रवार को जारी एक साथ दो दिनों की कोरोना जांच रिपोर्ट के अनुसार 23 जुलाई को 265 तो 22 को 296 नए संक्रमित मिले। इस तरह से एक दिन में कोरोना के कुल मामले 561 हुए। वहीं बिहार में एक साथ 1820 संक्रमित मिले। राज्य में कोरोना के कुल मामले 33511 हो गए हैं। पटना कोरोना पॉजिटिव मिलने के मामले में टॉप पर बना हुआ है। कोरोना से पटना में अबतक 35 से अधिक लोगों की मौत भी हो चुकी है। इधर, पटना एम्स में संविदा पर बहाल नर्सिंग स्टाफ की अनिश्चितकालीन हड़ताल शुक्रवार की दोपहर खत्म हो गई।

कोरोना जांच में आत्मनिर्भर हुआ एनएमसीएच 

कोविड अस्पताल एनएमसीएच कोरोना जांच में आत्मनिर्भर हो गया है। माइक्रो बायोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ. संजय कुमार ने बताया कि सेंटर ऑफ एक्सीलेंस स्थित माइक्रो बायोलॉजी लैब में दो ट्रूनेट जांच मशीन लगी है। इससे हर दिन एक सौ मरीजों के सैंपल की जांच होती है। एंटीजेन किट भी पर्याप्त मात्रा में जांच के लिए उपलब्ध है। इन दो माध्यमों से एनएमसीएच के लगभग सभी मरीजों की जांच हर दिन की जा रही है। इससे रिपोर्ट भी तुरंत प्राप्त हो जाती है। इलाज को आगे बढ़ाने में आसानी होती है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021