पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar Legislature Monsoon Session: बिहार विधानमंडल में राज्य सरकार (Government of Bihar) ने सोमवार को वर्ष 2021-22 के आय-व्यय से संबंधित प्रथम अनुपूरक व्यय विवरणी (Bihar Government First Supplementary Budget) को पेश किया। 27,050.1783 करोड़ रुपये खर्च करने की अनुमति मांगी। योजना मद में 14,161.9082 करोड़ रुपये, स्थापना एवं प्रतिबद्ध व्यय में 12,885.0586 करोड़ रुपये तथा केंद्रीय क्षेत्र योजना मद में 3,2115 करोड़ रुपये के प्रस्ताव हैं। विधानसभा में उप मुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद (Deputy CM Tar Kishore Prasad) और विधान परिषद में प्रभारी मंत्री के रूप में संजय झा (Sanjay Jha) ने अनुपूरक का प्रस्ताव दिया।

  • बिहार विधानमंडल में 27 हजार करोड़ का प्रथम अनुपूरक बजट पेश
  • कोरोना के टीका एवं दवा के लिए एक हजार करोड़ का प्रस्ताव

पटना मेट्रो रेल परियोजना के लिए चार सौ करोड़ रुपये प्रस्तावित

स्थापना एवं प्रतिबद्ध व्यय मद में एक हजार करोड़ रुपये कोविड-19 उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत टीकाकरण एवं दवा भंडार मद में प्रस्तावित है। तीन सौ करोड़ रुपये कोविड-19 से जान गंवाने वाले व्यक्ति के निकटतम आश्रित को अनुदान दिए जाने के लिए प्रस्तावित किया गया है। पंचायत चुनाव के लिए 182 करोड़ रुपये का प्रस्ताव है। पटना मेट्रो रेल परियोजना के लिए 400 करोड़ रुपये और बिहार को सुर्खियों में लाने वाली मुख्यमंत्री बालिका साइकिल योजना के लिए 194.72 करोड़ रुपये प्रस्तावित किए गए हैं।

आज अनुपूरक बजट पर चर्चा हो सकती है हंगामेदार

अनुपूरक बजट पर चर्चा बिहार विधान मंडल में हंगामेदार हो सकती है। विपक्ष के सदस्‍य खासकर कोरोना महामारी से निपटने पर हुए खर्च में पारदर्शिता नहीं बरते जाने का आरोप लगा रहे हैं। कोरोना से निपटने के लिए बनाए गए आकस्मिक फंड में विधायक निधि की राशि लिये जाने से विपक्ष के तमाम विधायकों में नाराजगी है। सत्‍ता पक्ष के भी कई लोग इस फैसले को वापस लेने की मांग कर चुके हैं। हालांकि सदन में बहुमत के कारण सरकार अपने तमाम विधेयकों को आसानी से पास करा लेगी।