पटना, जेएनएन। लॉकडाउन शुरू होने के बाद 25 मई से देश में फिर विमानों का परिचालन शुरू हो गया। इसके बाद दूसरे राज्यों से तो यात्री बड़ी संख्या में पटना आ रहे हैं पर यहां से दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु व चेन्नई जाने वाले यात्रियों की संख्या काफी कम है। स्थिति यह है कि बाहर से आने वाले विमानों में 95 फीसद तक सीटें भरी रहती हैं, वहीं पटना से उड़ान भरने वाले विमानों में 40 फीसद यात्री भी नहीं होते हैं।

14 दिनों के लिए क्वारंटाइन रखने का आदेश

दरअसल महाराष्ट्र, कर्नाटक समेत कई अन्य राज्यों ने वहां पहुंचने वाले विमान यात्रियों को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन पर रखने की घोषणा की है। यह भी पटना से दूसरे शहरों में जाने वाले यात्रियों की कम संख्या का प्रमुख कारण है। वहीं विमान से बिहार आने वाले यात्रियों को क्वारंटइन नहीं किए जाने के कारण यहां आने वाले यात्रियों की भीड़ है।

मुंबई जाने वाले विमानों में यात्रियों की संख्या कम

बेंगलुुरु जाने वाली उड़ानों में थोड़े अधिक यात्री रह भी रहे हैं परंतु मुंबई जाने वाली विमानों में यात्रियों की संख्या में काफी कमी आ गई है। अगर यही हालत रहा तो निजी विमान कंपनियां एक बार फिर से विमानों के परिचालन पर सोचने को मजबूर हो सकती हैं। पटना एयरपोर्ट के निदेशक बीसीएच नेगी ने बताया कि पटना से जाने वाली फ्लाइटों में यात्रियों की संख्या 40 फीसद के करीब रह रही है। यहां आने वाले विमानों में 95 फीसद तक सीटें भरी रहती हैं।

तिथिवार स्थिति

25 मई - 11 जोड़ी विमान

     यात्री पहुंचे -   1570

   यात्री रवाना हुए -  789

26 मई -  10 जोड़ी विमान

   यात्री पहुंचे -    1491

   यात्री रवाना हुए - 584

27 मई -   10 जोड़ी विमान

     यात्री पहुंचे -   1728

   यात्री रवाना हुए -  687

Posted By: Akshay Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस