पटना सिटी, जागरण संवाददाता। पटना-दीघा रेलवे लाइन पर बनने वाली सड़क की तरह ही पटना साहिब स्टेशन से लेकर पटना घाट के बीच की रेलवे लाइन हटा कर अगले वर्ष तक फोरलेन सड़क का निर्माण प्रारंभ हो जाएगा। पूर्व पथ निर्माण मंत्री सह पटना साहिब विधायक नंदकिशोर यादव ने रविवार को बताया कि रेलवे मंत्रालय, भारत सरकार की रजामंदी मिल चुकी है। डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट यानी डीपीआर बन चुका है। बिहार सरकार के साथ एमओयू साइन प्रक्रिया में है। घनी आबादी और मंडियों के बीच से होकर गुजरी यह सड़क लाखों लोगों को राहत पहुंचाएगी। इस महत्वपूर्ण सड़क के स्थल का निरीक्षण वर्ष 2018 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों के साथ किया था।

गंगा एक्सप्रेस वे से जुड़ेगी यह सड़क, कई विकल्प खुलेंगे

पटना सिटी की घनी आबादी के बीच बनने वाली पटना-साहिब से पटना घाट के बीच की फोरलेन सड़क को गंगा एक्सप्रेस-वे से जोड़ा जाएगी। दीघा से दीदारगंज के बीच गंगा में बन रहे एक्सप्रेस वे से राजधानीवासी बेहद कम समय में पटना साहिब पहुंच सकेंगे। अशोक राजपथ पर जाम की समस्या का अंत हो जाएगा। श्री गुरु गोविंद सिंह पथ की तरह बेहद महत्वपूर्ण एक और वैकल्पिक मार्ग पटना सिटी को मिल जाएगा।

रिंग रोड से जुड़ जाएंगे धार्मिक व व्यवसायिक स्थल

रेल मंत्रालय और राज्य सरकार के बीच इस भूखंड को लेकर लिखित औपचारिकता पूरी होते ही वर्ष 2022 में सड़क का निर्माण कार्य जल्द शुरू होने की संभावना है। गंगा एक्सप्रेस-वे से पटना घाट की यह प्रस्तावित सड़क जुड़ते ही पटना साहिब क्षेत्र एक रिंग रोड से जुड़ जाएगा। विश्व के दूसरे बड़े तख्त श्रीहरिमंदिर जी पटना साहिब, देश का पहला सूफी रिसर्च सेंटर, जैन मंदिर, कई खानकाह, जल्ला वाले महावीर मंदिर, बड़ी और छोटी पटन देवी, मां शीतला मंदिर तथा बिहार की व्यवसायिक मंडी तक दूर-दराज से लोगों का पहुंचना बेहद आसान हो जाएगा।

इन इलाकों के लोगों को होगा फायदा

पटना घाट से पटना साहिब की फोरलेन सड़क एक तरफ सुदर्शन पथ, गुलजारबाग स्टेशन मार्ग, अगमकुआं आरओबी, एनएच, ओल्ड बाइपास, कुम्हरार कंकड़बाग रोड और दूसरी ओर अशोक राजपथ के रास्ते गांधी मैदान तथा राजधानी के विभिन्न हिस्सों से जुड़ जाएगी। प्रस्तावित फोर लेन के इस रिंग रोड से मालसलामी मंडी, गुरु का बाग, दीदारगंज के रास्ते एनएच-30 आसानी से पहुंचा जा सकेगा।