हथुआ (गोपालगंज), संवाद सहयोगी। Bihar Crime: बिहार में चल रहे पंचायत चुनाव (Bihar Panchayat Chunav 2021) में एक से बढ़कर एक हैरान करने वाली घटनाएं सामने आ रही हैं। गोपालगंज में एक लड़की के अपहरण का आरोप पंचायत चुनाव के मुखिया प्रत्‍याशी पर लगा है। नाबालिग लड़की की मां का आरोप है कि अपने पक्ष में वोट देने का दबाव बनाने के लिए उसकी बेटी का अपहरण कर लिया गया है। मामला हथुआ थाना क्षेत्र के रेपुरा टोला बड़का बलुआ गांव का है। इस घटना को लेकर लड़की की मां ने पूर्व मुखिया सहित आठ लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।

दर्ज प्राथमिकी में नाबालिग लड़की की मां ने बताया है कि वह अपनी नाबालिग लड़की के साथ खेत की तरफ जा रही थी, तभी कुछ लोगों ने उन्हें रोक लिया तथा पूर्व मुखिया के पक्ष के वोट देने का दबाव बनाने के बाद उनकी बेटी का अपहरण कर लिया। दर्ज प्राथमिकी में बरी धनेश गांव निवासी दीपक कुमार साह, अमरजीत शाह, कमलेश शाह धनंजय शाह, बिंदालाल शाह तथा कमलेश शाह की पत्नी के साथ ही पूर्व मुखिया ब्रजेश कुमार को नामजद आरोपित बनाया गया है। पूर्व मुखिया पर अपनी बेटी का अपहरण करने की साजिश रचने तथा फिरौती मांगने का आरोप लगाया गया है। पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है।

यूपी के सीमावर्ती इलाकों में बढ़ाई गई चौकसी

इधर, दूसरे चरण में पंचायत चुनाव को लेकर सोमवार को चुनाव प्रचार समाप्त होने के साथ ही गोपालगंज जिले में उत्तरप्रदेश की सीमा से लगे इलाकों में अचानक चौकसी बढ़ा दी गई। इस बीच भारी संख्या में जवानों को यूपी सीमा पर स्थापित चेक बैरियर पर तैनात कर दिया गया, ताकि यूपी के रास्ते संदिग्ध लोगों के प्रवेश को रोका जा सके। जानकारी के अनुसार पंचायत चुनाव को लेकर विजयीपुर प्रखंड में कुल 201 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इनमें से 60 मतदान केंद्र उत्तरप्रदेश के देवरिया जिले की सीमा पर स्थित हैं। ऐसे में इन मतदान केंद्रों पर अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था बरतने का निर्देश जारी किया गया है।