पटना, जेएनएन।  बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ( Bihar School Examination Board ) ने मैट्रिक (Matric) व इंटर (Intermediate) के हर परीक्षार्थी (examinee)  के लिए सेंटअप परीक्षा (cent up exams) अनिवार्य कर दी है। जो परीक्षार्थी सेंटअप परीक्षा में शामिल नहीं होंगे, उन्हें मुख्य परीक्षा में भी बैठने की अनुमति नहीं मिलेगी।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर (Anand Kishore) ने कहा, इस वर्ष बोर्ड की ओर से मैट्रिक व इंटर की सेंटअप परीक्षा के लिए प्रश्न पत्र (Question paper)  भेजे गए हैं। इसके पहले स्कूल प्रशासन (School administration)अपनी तरफ से प्रश्न पत्र तैयार कर सेंटअप परीक्षा लेता था। बोर्ड के प्रश्न पत्रों पर सेंटअप परीक्षा लेने से मुख्य परीक्षा में पूछे जाने वाले सवालों के पैटर्न (pattern of question) के बारे में परीक्षार्थियों को आइडिया मिल जाएगा।

सेंटअप परीक्षा में पहुंचे 95 प्रतिशत विद्यार्थी

शास्त्रीनगर हाईस्कूल के प्राचार्य श्रीकांत शर्मा ने कहा, स्कूल में मैट्रिक व इंटर की सेंटअप परीक्षा में 95 फीसद से अधिक परीक्षार्थियों ने उपस्थिति दर्ज कराई है।

बोर्ड ने मांगा सेंटअप परीक्षा का रिजल्ट :

बिहार बोर्ड ने इस वर्ष न केवल स्कूलों को प्रश्न पत्र भेजा है, बल्कि सेंटअप परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों का रिजल्ट भी मांगा है। जो छात्र सेंटअप परीक्षा में सफल नहीं होंगे, उन्हें मुख्य परीक्षा से वंचित (will not be allowed to appear in exams) कर दिया जाएगा। स्कूल प्रशासन सेंटअप परीक्षा लेने के उपरांत रिजल्ट तैयार कर जिला शिक्षा कार्यालय भेजेगा। जिला शिक्षा कार्यालय से रिजल्ट बिहार विद्यालय परीक्षा समिति को भेजा जाएगा। 24 तक सभी स्कूलों को सेंटअप परीक्षा का रिजल्ट लेना है।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस