पटना। गांधी मैदान में एक दिसंबर से लगे सरस मेले को खत्म होने में बस अब एक दिन शेष रह गया है। मेले के आखिरी समय में राजधानीवासी अपने वीकेंड को खास बनाने के लिए सरस मेले में पहुंच रहे हैं। शनिवार को मेले में काफी भीड़ देखने को मिली। किसी को यहां अलग-अलग राज्यों के व्यंजन अपनी तरफ आकर्षित करने में लगे हैं, तो किसी को अपने घर के एक अलग लुक देना है, इसलिए वे सरस मेले में अपनी पसंद की चीजों को खोज रहे हैं। घर सजाने वाले सामान की मांग रही सबसे ज्यादा :

मेले में लोगों की बीच सहारनपुर के फर्नीचर की मांग सबसे ज्यादा देखने को मिल रही है। अपना स्टॉल लगाए हुए राहुल कुमार का कहना है कि मेले में आने वाले लोग झूले वाली कुर्सी और लकड़ी के सोफे की मांग करते हुए दिख रहे हैं। वही, बोरिग रोड से शॉपिंग करने के लिए आई आयुषी बताती हैं कि यहां पर मिलने वाले फर्नीचर जल्दी मार्केट में नहीं मिलते हैं। कीमत भी मार्केट से ठीक लग रही है। इसलिए हमारी पूरी कोशिश होती है कि हम सरस मेले से ही घर सजाने का सामान लेकर जाएं। यहां चार हजार 30 हजार रुपये तक के सोफे खूब बिक रहे हैं। राजस्थान और गुजरात की कलाकृतियां आ रहीं पसंद :

सरस मेले में लोगों को इस बार लोगों को राजस्थान और गुजरात से आई कलाकृतियां बहुत पसंद आ रही हैं। इसमें सबसे ज्यादा बैग और रैप स्कर्ट पसंद किया जा रहा है। दुकानदारों की मानें तो अलग-अलग राज्यों से आए हुए कपड़े भी लोग बहुत पसंद कर रहे हैं। खासकर गुजरात से आए हुए बैग, राजस्थान के आए हुए रैप स्कर्ट और पंजाब से आए दुपट्टे की अलग-अलग रेंज लोगों को बहुत ज्यादा लुभा रही है। खादी की बंडी और तरह-तरह के कुर्ते :

इस बार मेले में ठंड को ध्यान में रखते हुए लोगों के बीच खादी की बंडी और ऊनी कुर्ता मिक्स खादी को बहुत पसंद किया जा रहा है। दुकानदार आरिफ बताते हैं कि लोगों ने इस बार खादी के कपड़ों की मांग बहुत ज्यादा की है। लोगों को प्लेन लुक वाली बंडी बहुत ज्यादा भा रही है। कहते हैं दुकानदार :

कोलकाता से यहां स्टॉल लगाने के लिए आए हुए हैं। अभी तक हमने हजारों रुपये के फूलों को बेच दिया है। लोगों को नकली फूलों के साथ ही फ्लावर पॉट और बांस से बने हुए सामान बहुत पसंद आ रहे हैं।

- गोपा हमारे यहां से लोगों ने पहले दिन से अभी तक में लाखों रुपये के फर्नीचर को पसंद कर के बुकिंग करवा ली है। इसमें सबसे ज्यादा डिमांड सोफा और आरामदायक कुर्सी की रही।

- जिशान बिहार शिल्प से जुड़ी हुई चीजें भी लोगों को बहुत ज्यादा पसंद आ रही हैं। मधुबनी पेंटिंग वाले बैग की बिक्री ज्यादा है। बिहार की अलग-अलग कलाओं को बैग और कपड़ों पर दिखाया जा रहा है।

- संगीता झा

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस