पटना [राज्‍य ब्‍यूरो]। अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव (Assembly Election) के पूर्व प्रदेश के विरोधी दल (Opposition Parties) राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) सरकार के खिलाफ एकजुट होने लगे हैं। शुक्रवार को महागठबंधन (Grand Alliance) और वामदल (Left Parties) के नेताओं ने साझा प्रेस कांफ्रेंस कर प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन का एलान किया। 13 नवंबर को महागठबंधन में शामिल घटक दलों के साथ ही वाम दल जिला मुख्यालयों पर नीतीश सरकार (Nitish Government) के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। हालांकि, प्रेस काॅन्‍फ्रेंस में राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) व हिंदुस्‍तानी अवाम मोर्चा (HAM) ने शिरकत नहीं की।

महागठबंधन का जिलों में प्रदर्शन का फैसला

प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा Upendra Kushwaha), कांग्रेस नेता अखिलेश प्रसाद सिंह (Akhilesh Prasad Singh), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI) के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह (Satya Narayan Singh) व विकासशील इंसान पार्टी (VIP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) ने संयुक्त रूप से कहा कि प्रदेश का विकास पूरी तरह से ठप पड़ चुका है। दो इंजन वाली सरकार (Double Engine Government) के दोनों इंजन विपरीत दिशा में दौड़ रहे हैं और इसका नुकसान राज्य की जनता को उठाना पड़ रहा है। प्रदेश सरकार के साथ ही केंद्र सरकार भी आम आदमी के जन सरोकार पर लगातार हमला कर रही है। सरकार के खिलाफ जनता में भारी आक्रोश है। इन तमाम पहलुओं को देखते हुए जिलों में प्रदर्शन का साझा फैसला लिया गया है।

प्रेस काॅन्‍फ्रेंस से अलग रहे आरजेडी व 'हम'

महागठबंधन और वाम नेताओं ने प्रदर्शन का एलान तो किया, लेकिन इस दौरान आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) या आरजेडी का कोई दूसरा प्रतिनिधि नहीं था। 'हम' प्रदेश नेतृत्व से भी कोई नेता इसमें शामिल नहीं हुआ। बता दें कि तेजस्वी यादव रांची में हैं। जबकि, मांझी ने गुरुवार को ही पार्टी की बैठक में एलान कर दिया था कि वे बिहार और झारखंड विधानसभा के चुनाव अकेले लड़ेंगे।

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप