पटना, राज्य ब्यूरो। शिक्षा विभाग ने स्पष्ट कर दिया है कि नृत्य, ललित कला, कंप्यूटर एवं शारीरिक शिक्षा विषय के शिक्षक पद पर नियोजन के लिए एसटीईटी-2012 में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को अधिकतम उम्र सीमा में 2021 तक छूट दी जाएगी। लेकिन, इसका लाभ वर्तमान में संचालित छठे चरण के नियोजन में नहीं मिलेगा। वहीं, अन्य विषयों के अभ्यर्थियों को संगीत विषय के शिक्षक की तरह छठे चरण के माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षक नियोजन में अधिकतम उम्र सीमा में छूट नहीं दी जाएगी। 

शिक्षा विभाग के अनुसार यह निर्णय पटना हाईकोर्ट द्वारा 28 अगस्त को पारित आदेश के आलोक में लिया गया है। कहा गया है कि नियोजन वर्ष 2012 में माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालय के संगीत शिक्षक के पद पर नियोजन के लिए रिक्ति विज्ञापित नहीं होने के कारण उम्र संबंधी अधिसूचना से इस विषय के अभ्यर्थी लाभान्वित नहीं हो पाए थे।

वर्ष 2012 में जारी निर्देश में कहा गया था कि जिन अभ्यर्थियों की उम्र सीमा शिक्षा पात्रता परीक्षा के समय निर्धारित उम्र सीमा के अधीन थी तथा जिन्होंने शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण कर ली है, वैसे अभ्यर्थियों की उम्र सीमा को शिक्षक नियोजन 2012 के अंतर्गत संबंधित नियोजन समिति द्वारा विलोपित करते हुए नियोजन की कार्रवाई की जाएगी। इस प्रकार उम्र सीमा में यह छूट नियोजन वर्ष 2012 के लिए थी। जिन अभ्यर्थियों की उम्र सीमा शिक्षा पात्रता परीक्षा एसटीईटी- 2011 के समय निर्धारित उम्र सीमा के अधीन थी तथा जिन्होंने एसटीईटी- 2011 में उत्तीर्णता प्राप्त की थी, वैसे अभ्यर्थियों की उम्र सीमा नियोजन के आगामी चरण के लिए एक बार विलोपित की गई थी। उक्त आदेश को माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षकों के छठे चरण के नियोजन के लिए निर्गत विभागीय अधिसूचना के माध्यम से लागू किया जा रहा है।  

उम्र सीमा में मिल रही 10 साल की छूट

शिक्षा विभाग के अनुसार बीएड योग्यताधारी शिक्षकों को अधिकतम उम्र सीमा में 10 वर्षों की छूट पहले से दी जा रही है। यह छूट संगीत विषय के साथ-साथ नृत्य, ललितकला, कंप्यूटर तथा शारीरिक शिक्षा विषय के शिक्षक के लिए प्रभावी नहीं है। क्योंकि, इन विषयों में शिक्षक नियोजन के लिए बीएड योग्यता की आवश्यकता नहीं है। एसटीईटी-2011 के रिजल्ट के आधार पर तृतीय, चतुर्थ तथा पंचम चरण की नियोजन प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। 

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप