मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

पटना [जितेंद्र कुमार]। भूजल स्तर को कायम रखने के लिए शुरू किया गया जल शक्ति अभियान राजधानी पटना में ही फेल हो गया। योजनाएं तो बनीं, लेकिन कागज पर ही रह गईं। नतीजा, पटना जिले को 100 में मात्र 13.26 अंक मिले और वह देश भर के शहरों में 198वें स्थान पर फिसल गया। पटना के लिए ये स्थिति इसलिए भी शर्मनाक है, क्योंकि देश के टॉप 100 जिले में बिहार के गया, जहानाबाद, नवादा और भोजपुर जैसे जिले शामिल होकर आगे हैं। बेगूसराय, नालंदा, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर व सारण जिले भी पटना से आगे हैं। 

तीन हिस्‍सों बांटकर कार्य की जिम्‍मेवारी

केंद्रीय जल मंत्रालय ने जल शक्ति अभियान को तीन हिस्से में बांटकर कार्य की जिम्मेदारी सौंपी है। पांच तरह के कार्यों के लिए 70 अंक निर्धारित किए गए हैं। ये पांच कार्य जल संरक्षण और वर्षा जल संचय, परंपरागत जल स्रोतों का पुनर्जीवित करना, भू-जल स्तर को रीचार्ज के लिए नई बोरिंग, जलाशय का विकास और पौधारोपण शामिल हैं। विशेष पहल के लिए 20 अंक निर्धारित किए गए हैं, जिसके तहत प्रखंड और जिला जल संरक्षण की कार्ययोजना तैयार करना और कृषि विज्ञान मेला का आयोजित करना है। पांच प्रेरक उपलब्धि को एसबीएम साफ्टवेयर पर अपलोड करने के लिए 10 अंक तय हैं। 

पटना के पांच प्रखंडों का हुआ चयन

जल शक्ति अभियान के लिए पटना जिले के पांच प्रखंडों फुलवारीशरीफ, पटना सदर, पुनपुन, संपतचक और अथमलगोला का चयन किया गया है। ये वही प्रखंड हैं, जहां भू-जल स्तर 40 फीट नीचे तक सरक गया है। प्रथम चरण में सभी स्कूलों में चापाकल और कुआं के पास बोरिंग कर जल स्रोत रिचार्ज के लिए नई बोरिंग करनी थी। पंरपरागत आहर-पइन की सफाई और मनरेगा से निजी भूमि पर तालाब निर्माण का काम होना था। ये दोनों योजनाएं कुछ हद तक लागू हुईं। पौधारोपण, कृषि विज्ञान मेला और प्रेरक योजनाओं को अपलोड करने में जिला पिछड़ गया। ब्रांडिंग के स्तर पर ध्यान नहीं दिया जा सका। 

पौधारोपण में बेहतर कर बढ़ गया

गया को टॉप 10 जिले में शामिल होने के पीछे पौधारोपण कार्यक्रम माना जा रहा है। अंक बटोरने में पौधारोपण ने बड़ी मदद की है। गया जिले की कुल आबादी 2011 की जनगणना के अनुसार लगभग 47 लाख है। यहां प्रति व्यक्ति के हिसाब से एक-एक पौधे लगाने का दावा किया गया है। मगध प्रमंडल के तीन जिले गया, नवादा और जहानाबाद टॉप 100 जिले में शामिल हो गया है, जिसके पीछे वन क्षेत्र माना जा रहा है। जहानाबाद ने 25.2 अंक के साथ देश में 60वां तो नवादा 23.32 अंक लाकर 77 वां स्थान हासिल किया है। 

कौन कितने पानी में (100 अंक)

जिला  - प्राप्त अंक  - देश में रैंक 

गया       - 73.79      - 3 

जहानाबाद - 25.02      - 60 

नवादा     - 23.32      - 77 

भोजपुर    - 22.29      - 92 

बेगूसराय   - 21.99     - 101

नालंदा     - 18.38     - 165 

गोपालगंज  - 17.16    - 175 

मुजफ्फरपुर - 16.94     - 177

सारण      - 15.23     - 192 

पटना       - 13.26     - 198 

वैशाली    - 10.43      - 207 

कटिहार    - 10.02      - 208 

70 अंक मिलते इनके लिए 

1. जल संरक्षण के लिए वर्षा जल संचय 

2. परंपरागत जल स्रोत का निर्माण 

3. भू-जल स्रोत रीचार्ज के लिए बोङ्क्षरग 

4. जलाशयों का निर्माण कार्य 

5. पौधारोपण 

20 अंक की ये योजनाएं

1. जिले का जल संरक्षण योजना 

2. कृषि विज्ञान मेला आयोजन 

10 अंक इसके लिए निर्धारित

1. पांच प्रेरक कार्य अपलोड करना 

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप