मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

पटना, जेएनएन। बिहार (Bihar) एनडीए (NDA) में जदयू और भाजपा (JDU BJP) के बीच बीजेपी एमएलसी संजय पासवान (BJP MLC Sanjay Paswan) के सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को केंद्र की राजनीति करने की सलाह और सुशील मोदी के लिए सीएम की कुर्सी खाली करने वाले बयान के बाद सियासी बवाल बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को भी भाजपा और जदयू नेताओं के बीच तनातनी जारी रही।

इसके बाद इसमें नया मोड़ तब आ गया जब बुधवार को उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi ) ने इसपर विराम लगाने की कोशिश की और अपने ट्वीट पर लिखा कि 2020 का चुनाव भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। 

 

डिप्टी सीएम ने जो ट्वीट किया इसमें उन्होंने लिखा, नीतीश कुमार बिहार में NDA के कैप्टन हैं और 2020 में होने वाले अगले विधान सभा चुनाव में भी वही कैप्टन बने रहेंगे। ऐसे भी जब कैप्टन हर मैच में चौका और छक्का जड़ रहा हो और विरोधियों की पारी से हार हो रही हो तो किसी भी प्रकार के बदलाव का सवाल ही कहां उठता है?

वहीं जेडीयू-बीजेपी के बीच तकरार भरे रिश्तों पर आरजेडी प्रवक्ता और सांसद मनोज झा ने कहा कि हम इस रिश्ते के तमाशे को हास्य और विनोद की नज़रों से देखते हैं। कभी संघ युक्त तो कभी संघ मुक्त, नीतीश जी समझ नहीं पा रहे हैं। नूरा -कुश्ती चल रही है और हम दूर खड़े इस तमाशे को देख रहे हैं। उन्होंने सुशील मोदी के ट्वीट पर कहा कि सच है कि सुशील मोदी की पूरी विरासत यही है। उन्हें नीतीश जी का आभारी होना चाहिए।

 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप