PreviousNext

अगर डाकघर में है खाता, तो अब वहां से भी ले सकेंगे गैस की सब्सिडी, जानिए

Publish Date:Thu, 07 Dec 2017 01:37 PM (IST) | Updated Date:Thu, 07 Dec 2017 11:38 PM (IST)
अगर डाकघर में है खाता, तो अब वहां से भी ले सकेंगे गैस की सब्सिडी, जानिएअगर डाकघर में है खाता, तो अब वहां से भी ले सकेंगे गैस की सब्सिडी, जानिए
अब अगर आपका खाता डाकघर में है तो आप गैस की सब्सिडी ले सकते हैं। बिहार डाक सर्किल के सहायक निदेशक ने बताया कि अब खाताधारक डाकघर के जरिए भी गैस की सब्सिडी ले सकते हैं।

पटना [जेएनएन]। एलपीजी गैस की सब्सिडी अब आपके डाकघर के खाते में भी मिल सकेगी। अभी जिन उपभोक्ताओं का डाकघर में सीबीएस खाता है, वे चाहें तो गैस सब्सिडी की राशि उसमें मंगा सकते हैं। हालांकि, 2018 से बिहार सर्किल के सभी डाकघरों में सीबीएस की सुविधा मिल जाएगी, जिससे ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओं को भी गैस सब्सिडी पाने में आसानी होगी।

 

वहीं, उज्ज्वला योजना के तहत एलपीजी उपभोक्ताओं की संख्या लगातार बढ़ रही है। ऐसे में स्थानीय डाकघर के खाते में ही सब्सिडी की राशि मिल जाने पर उन्हें सहूलियत होगी। बिहार डाक सर्किल के सहायक निदेशक राजदेव प्रसाद ने बताया सीबीएस खाताधारक डाकघर जरिए भी गैस सब्सिडी पा सकते हैं।

 

आधार से लिंक होना जरूरी

नया गैस कनेक्शन लेते समय उपभोक्ता को सब्सिडी पाने के लिए डाकघर के खाते का नंबर देना होगा। खाते का आधार नंबर से लिंक होना जरूरी है। डाक विभाग के अधिकारी ने कहा पुराने उपभोक्ता आवेदन देकर सब्सिडी की राशि बैंक की बजाय डाकघर में भी मंगा सकते हैं।

 

मोबाइल नंबर देना अनिवार्य

डाकघर के खाते में मोबाइल नंबर देना अनिवार्य है। खाते में होनेवाले ट्रांजेक्शन की जानकारी एसएमएस से मिलेगी। वहीं, गैस सब्सिडी के अलावा मनरेगा, वृद्धावस्था व विधवा पेंशन, छात्रवृत्ति समेत 64 तरह की योजनाओं का लाभ डाकघर के खाता धारकों को मिल सकेगा। इस योजना के जरिए डाक विभाग लोगों से अधिक से अधिक जुड़ेगा भी। 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:If you have an account in post office you will get subsidy of LPG from account(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

सावधान! उत्तर व दक्षिण बिहार को जोडऩे वाले इस पुल पर हैं ये 10 खतरे, जानिएबिहार में शराबबंदी के अाफ्टर इफेक्ट, कोबरा वेनम से लेकर मादक द्रव्यों तक की बढ़ी तस्करी