पटना । राजधानी में फागिग व लार्वासाइडल छिड़काव में लापरवाही से बेकाबू डेंगू मच्छर अब जानलेवा हो चुके हैं। दिनोंदिन संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। गुरुवार को इस वर्ष पहली बार एक दिन में रिकार्ड 15 नए रोगी मिले। सोमवार से औसतन हर दिन 12 नए डेंगू रोगी मिल रहे हैं। वहीं, नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग सघन फागिग और छिड़काव करने के बजाय एक-दूसरे पर काम नहीं करने का ठीकरा फोड़ रहे हैं। राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक अक्टूबर-नवंबर और पर्व पर बड़ी संख्या में बाहर से लोगों के आने के कारण डेंगू संक्रमितों की संख्या बढ़ने की आशंका को देखते हुए व्यापक दिशा-निर्देश जारी किए थे। बावजूद इसके लार्वा मारने के लिए छिड़काव और वयस्क मच्छरों को मारने के लिए सघन फागिग अभियान नहीं शुरू किया गया। नतीजा, आठ ग्रामीण और 22 शहरी मोहल्लों में डेंगू के मरीज मिल चुके हैं।

----------

पीएमसीएच में पटना के सात समेत 20, अन्य अस्पतालों में आठ संक्रमित

पीएमसीएच के प्राचार्य डा. विद्यापति चौधरी ने बताया कि गुरुवार को 64 आशंकितों की डेंगू जांच की गई। इनमें से 20 की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। 12 संक्रमितों के नमूने पीएमसीएच में लिए गए, जबकि आठ के अन्य जिलों से आए हैं। नवादा के आठ, पटना के सात व अन्य सिवान, सोनपुर, खगड़िया, पूर्वी चंपारण जिलों के निवासी हैं। जिला मलेरिया पदाधिकारी डा. विनोद कुमार चौधरी ने बताया कि गुरुवार को पारस से चार, आरएमआरआइ, कुर्जी, एम्स आदि से आठ नए संक्रमितों की सूचना प्राप्त हुई है। मलेरिया विभाग को अबतक 133 डेंगू संक्रमितों की जानकारी मिली है। हालांकि, इनकी संख्या 140 हो चुकी है।

---------

संक्रमित के घर के 500 मीटर

के दायरे में नहीं हो रही फागिग

एलाइजा विधि से डेंगू संक्रमण की पुष्टि होने पर मलेरिया विभाग को मरीज के घर में फागिग और आसपास लार्वासाइड का छिड़काव कराना है। वहीं, आसपास के लोगों को संक्रमित मच्छर बीमार नहीं करें इसके लिए नगर निगम को तीन से पांच दिन तक संक्रमित के घर के चारों ओर सुबह या शाम फागिग करानी है। इसकी एवज में स्वास्थ्य विभाग नगर निगम को धनराशि मुहैया कराता है। अबतक 140 संक्रमितों में से मलेरिया विभाग 85 के घर एक बार फागिग व छिड़काव करा चुका है। वहीं, नगर निगम को 99 संक्रमितों की लाइन लिस्ट सौंपी जा चुकी है, लेकिन फागिग कराने की न तो स्वास्थ्य विभाग को जानकारी दी गई और न ही स्थानीय लोग इसकी पुष्टि कर रहे हैं।

---------

निगम से फागिग की

मांगी गई है रिपोर्ट

सिविल सर्जन के संज्ञान में मामला लाने पर बताया जाता है कि नगर निगम को फागिग कर रिपोर्ट देने को कहा गया है। मलेरिया पदाधिकारी के अनुसार अब तक कोई रिपोर्ट नगर निगम ने नहीं दी है।

----------

डेंगू-चिकनगुनिया से

बचाएंगे ये उपाय

- एडीज मच्छर दिन में खासकर सुबह और शाम को ज्यादा काटता है। ऐसे में इस समय मोजे व फुल आस्तीन के कपड़े पहन कर काफी हद तक इससे बचा जा सकता है।

- घर या आसपास डेंगू मच्छर नहीं पनप सकें इसलिए पानी संग्रह वाली चीजों जैसे जार, बोतलें, कंटेनर, टायर, टब आदि को सूखा रखें। यदि पानी देर तक जमाकर रखना हो तो उसे महीन जाली से ढंक कर रखें और एक-दो दिन में बदलते रहें।

-घर के आसपास खुली जगह में पानी जमा हो तो वहां केरोसिन, कीटनाशक की गोलियां या ब्लीचिग पाउडर का छिड़काव करें।

- कूलर और गमलों में कीटनाशक दवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं।

- सोते वक्त मच्छरदानी का प्रयोग करें, खिड़की-दरवाजों में जाली लगवाएं।

Edited By: Jagran