मंडल कारा में व्याप्त कुव्यवस्था व भ्रष्टाचार की पोल खुलनी शुरू हो गई है। इस बावत एक उच्च महिला कक्षपाल ने पुलिस अधीक्षक को आवेदन दे जेलर समेत दो लोगों पर विरोध करने पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाई है। इसके साथ ही उचित न्याय की गुहार लगाई है। सोमवार को दिए आवेदन की छायाप्रति जागरण को उपलब्ध कराई गई है। आरोप है कि जेलर के साथ ही जमादार विश्वमित्र व रौशन झा द्वारा बंदियों से मिलने आए परिजनों द्वारा उपलब्ध कराए जाने वाले अवैध सामग्रियों को बंदी तक पहुंचाने का दबाव बनाते हैं। छापामारी के क्रम में कई बार गांजा व मोबाइल समेत कई आपत्तिजनक सामग्री का बरामद होना इसका प्रमाण है। इसके साथ ही बंदियों को पूर्ण रूपेण भोजन उपलब्ध न कराकर अपने-अपने क्वार्टर में भेज देते हैं। रौशन झा की ड्यूटी न होने के बावजूद उन्हें हमेशा मुख्य गेट पर भेजते रहते हैं। परिजनों से मिलने वाली नाजायज राशि का तीनों मिलकर बंदरबांट कर लेते हैं।

विरोध करने पर मेरे साथ न केवल दु‌र्व्यवहार किया जाता है, बल्कि तबादला कराने की धमकी दी जाती है। विधवा होने के कारण मैं हमेशा प्रताड़ित की जा रही हूं। उन्होंने एसपी से मामले की जांच कर उचित न्याय दिलाने का अनुरोध की है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran