मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

प्रखंड के लालबीघा गांव के पारवती नदी खंधा में शनिवार की शाम अचानक आग लग जाने से करीब दस बिगहा खेत में खड़ी गेहूं की फसल जल गई। सूचना पाकर आग बुझाने दौड़े ग्रामीणों ने अथक प्रयास से धधकती आग पर काबू पाया। मगर तबतक काफी नुकसान हो चुका था। ग्रामीणों ने बताया कि उक्त खंधा के कुछ हिस्से में शुक्रवार को हार्वेस्टर से गेहूं की कटाई की गई थी। गेहूं की खूंटी को जलाने के लिए किसानों ने जो आग जलाई थी उसकी बची चिगारी ने नजदीक रहे खेत के गेहूं की फसलों को अपनी चपेट में ले लिया। जिससे ग्रामीण रामानुज सिंह, फुल्ली, शैलेंद्र सिंह , मौली सिंह आदि किसानों के करीब दस बिगहा खेत में लगी फसल जल गई। रामनवमी का दिन होने के कारण अधिकांश ग्रामीण महावीरी पताका फहराने में व्यस्त थे। लिहाजा इस और किसी ध्यान नहीं गया। खंधा में मवेशी चरा रहे चरवाहों ने गांव जाकर खेत में आग लगने की सूचना दी। किसानों ने बोरिग चालू कर आग पर काबू पाया। घटना की सूचना पर शाहपुर ओपी की पुलिस मौके पर पहुंची और स्थिति का जायजा लिया। मुखिया प्रतिनिधि कैलाश पासवान ने पीड़ित किसानों को उचित मुआवजा दिए जाने की मांग जिलाधिकारी से की है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप