नवादा : सिचाई के श्रोत टेरुआ को मिट्टी भरकर बंद कर देने को लेकर दो गांवों ोमायापुर और हमीदपुर बारा के लोगों के बीच गुरुवार की शाम हिसक झड़प हुई। जमकर हुई मारपीट व पथराव में दोनों गांव के कई लोग जख्मी हो गए। सूचना के बाद दल बल के साथ पहुंचे थानाध्यक्ष सरफराज इमाम ने लोगों को शांत कराया। घायलों को इलाज के लिए विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया। घटना की पुनरावृति न हो इसके लिए पुलिस रात भर गांव में कैंप करती रही।

मिली जानकारी के अनुसार हमीदपुर बारा गांव के जख्मी बाल्मिकी साव, रोहित कुमार, कुंदन कुमार, गुलशन कुमार, मनीष कुमार, राहुल कुमार, संतोष कुमार आदि का इलाज सदर अस्पताल नवादा में चल रहा है। वहीं मायापुर गांव के जितेंद्र कुमार, बिपिन कुमार, भीखी यादव, सुनील कुमार, भूषण कुमार, रामप्रवेश कुमार, ऋषिका कुमारी आदि का इलाज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नरहट में किया जा रहा है।

नरहट सीएचसी में घायलों का इलाज कर रहे ड़ॉ विनोद कुमार ने बताया कि जितेंद्र कुमार, बिपिन कुमार, भीखी यादव, सुनील कुमार, ऋषिक कुमारी को बेहतर इलाज के लिए रेफर किया गया है।

हमीदपुर बारा के ग्रामीणों ने बताया कि मायापुर गांव के पास कुछ लोगों द्वारा टेरुआ को मिट्टी से भर दिया गया था। पटवन में बाधा उत्पन्न होने की संभावना को देखते हुए हमीदपुर गांव के कुछ लोग मायापुर गए। और वहां के ग्रामीणों को मिट्टी साफ करने को कहा। कहा गया कि बरसात आ गया है खेतों तक पानी पहुंचाना जरूरी है।

इसी बात को लेकर विवाद हुआ और वहां पहुंचे लोगों को मारपीट कर दिया। इस मामले के बाद दोनों गांव के लोगों में पथराव एवं मारपीट हो गई। दोनों गांव आसपास ही है। ऐसे में इलाका रणक्षेत्र बन गया। पुलिस पहुंचने के बाद स्थिति नियंत्रित हुई।

थानाध्यक्ष ने बताया कि इस मामले में मायापुर गांव के तरफ से अरुण कुमार एवं हमीदपुर बारा के तरफ से रामरूप सिंह द्वारा अलग-अलग दर्ज प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। दोनों ओर से दर्जनों नामजद एवं अज्ञात को आरोपित किया गया है। इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए कांड से जुड़े मायापुर गांव के 12 एवं हमीदपुर बारा गांव के 10 कुल 22 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। स्थिति नियंत्रण में है। गांव में पुलिस बल कैंप कर रही है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप