जिले में दो अलग-अलग स्थानों पर हुए सड़क हादसे में छात्र समेत दो लोगों की मौत हो गई। जबकि दो लोग जख्मी हो गए। एक घटना शनिवार को नवादा नगर थाना क्षेत्र के नवादा-हिसुआ पथ पर शोभिया मंदिर के समीप हुई। जिसमें बाइक सवार एक युवक की मौत हो गई और दूसरा जख्मी हो गया। मृतक 19 वर्षीय मो. मोइन भदौनी के रिजवी चौक निवासी मो. ग्यासउद्दीन का पुत्र था। वहीं घायल मंगला बड़ी दरगाह मोहल्ला निवासी मो. सेराज का पुत्र है। घटना के विरोध में लोगों ने सछ्वावना चौक को जाम कर दिया। वहीं दूसरी घटना रविवार की सुबह पटना-रांची पथ पर रजौली थाना क्षेत्र के बहादुरपुर मोड़ के पास हुई। जिसमें साइकिल सवार छात्र 13 वर्षीय रोशन कुमार की मौत हो गई और दूसरा नवलेश कुमार जख्मी हुआ। घायलों को बेहतर इलाज के लिए पीएमसीएच रेफर कर दिया गया है।

बताया जाता है कि मो. मोइन अपने दोस्त मंगला के साथ शनिवार को बाइक पर सवार होकर हिसुआ की तरफ से नवादा लौट रहा था। इसी बीच गया की तरफ जा रही अज्ञात वाहन ने शोभिया मंदिर के समीप टक्कर मार दी। जिससे दोनों गंभीर रुप से जख्मी हो गए। आसपास के लोगों की मदद से उन दोनों को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें बेहतर इलाज के लिए पीएमसीएच पटना रेफर कर दिया गया। पटना जाने के क्रम में बीच रास्ते में मोइन ने बीच रास्ते में दम तोड़ दिया। अगले दिन रविवार की सुबह परिजनों व ग्रामीणों ने शव को सड़क पर रखकर सछ्वावना चौक को जाम कर दिया। लोगों ने सदर अस्पताल प्रबंधन पर आरोप लगाते हुए कहा कि शरीर से खून बह रहा था। लेकिन रुई बांधकर रेफर कर दिया गया, बावजूद खून का बहाव बंद नहीं हुआ। शरीर से अधिक खून बह जाने के कारण ही मौत हुई। लोगों ने इलाज के नाम पर रुपये मांगने का भी आरोप लगाया। इसकी सूचना मिलते ही नगर थाना की पुलिस वहां पहुंच गई और लोगों को समझाने में जुट गई। बाद में सदर एसडीओ अनु कुमार, एसडीपीओ विजय कुमार झा, बीडीओ कुमार शैलेन्द्र भी वहां पहुंचे और सड़क जाम कर रहे लोगों को शांत कराया। बीडीओ ने पारिवारिक लाभ योजना के तहत 20 हजार रुपये एवं भदौनी मुखिया आबदा आजमी ने कबीर अंत्येष्टि के तहत 3 हजार रुपये प्रदान किया। इसके अलावा एक लाख रुपये, आवास योजना का लाभ दिलाने का भी आश्वासन दिया। जिसके बाद जाम समाप्त हुआ और यात्रियों ने राहत की सांस ली। वहीं गंभीर रूप से जख्मी मंगला का इलाज सदर अस्पताल में किया जा रहा है।

---------------------

ट्यूशन पढ़ने जा रहे छात्रों को स्कॉर्पियो ने मारी टक्कर

संस, रजौली : पटना-रांची पथ पर थाना क्षेत्र के बहादुरपुर मोड़ के समीप स्कॉर्पियो ने साइकिल सवार दो छात्रों को टक्कर मार दी। जिसके चलते दोनों छात्र दूर जा गिरे। जिससे दोनों गंभीर रुप से जख्मी हो गए। आसपास के लोगों ने दोनों को उठाकर इलाज के लिए अनुमंडलीय अस्पताल रजौली में भर्ती कराया। जहां चिकित्सक ने एक छात्र को मृत घोषित कर दिया। जबकि दूसरे छात्र को प्राथमिक उपचार के बाद सदर अस्पताल नवादा रेफर कर दिया गया। वहां से फिर उसे पीएमसीएच रेफर किया गया।

मृतक रोशन कुमार थाना क्षेत्र के होरिला गांव निवासी रामविलास दास का पुत्र था। वहीं घायल नवलेश उसी गांव के रामबालक प्रसाद का पुत्र है। बताया जाता है कि दोनों छात्र साइकिल से ट्यूशन पढ़ने अमावां जा रहा था। इसी बीच नवादा की तरफ तेज गति में जा रही स्कॉर्पियो ने टक्कर मार दी। अनुमंडलीय अस्पताल में रोशन को मृत घोषित करते ही कोहराम मच गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। इसकी सूचना मिलने पर बीडीओ प्रेम सागर मिश्रा अस्पताल पहुंचे और हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया।

---------------

छीन गया बुढ़ापे का सहारा

- ग्रामीण बताते हैं कि मृतक छात्र रामविलास का इकलौता पुत्र था। वही उसके बुढ़ापे का सहारा था। लेकिन काल ने उसे असमय सदा के लिए छीन लिया। रामविलास को तीन बेटी के बाद एक बेटा हुआ था। वह काफी गरीब हैं और मेहनत मजदूरी कर एक कमरे के घर में रहकर पूरे परिवार का भरण पोषण कर रहा था। अपने बेटे को पढ़ाने के लिए वे जी तोड़ मेहनत कर रहा थे, ताकि बेटा पढ़ कर कुछ बने और उसके गरीबी को दूर कर सके। घर का चिराग बुझने से पूरा परिवार सदमे में है। परिवार का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा है। आसपास के लोग भी परिवार की रोने और दहाड़ सुनकर अपनी आंसुओं को रोक नहीं पा रहे थे।

----------------

अस्पताल में दिखी कुव्यवस्था

- कई ग्रामीणों ने बताया कि दोनों दुर्घटनाग्रस्त युवक को अस्पताल लाया गया तो सन्नाटा पसरा हुआ था। डॉक्टर नजर नहीं आ रहे थे। कुछ देर बाद डॉक्टर मिले और घायल का उपचार करने लगे। रेफर नवलेश को सदर अस्पताल ले जाने के लिए परिजनों को एंबुलेंस की तलाश करनी पड़ी। लोगों ने इसकी शिकायत बीडीओ से की है। बीडीओ ने उन्हें आश्वासन दिया कि डॉक्टर व एंबुलेंस कर्मी की लापरवाही की शिकायत वरीय पदाधिकारी से की जाएगी।

Posted By: Jagran