नवादा। अकबरपुर प्रखंड के गंगटा गांव में मंगलवार को चुनाव बाद हुई गोलीबारी की घटना में ¨टकु ¨सह की मौत के बाबत थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई प्राथमिकी में कुल 20 को अभियुक्त बनाया गया है। जिसमें गांव के ही मुखिया प्रत्याशी विपिन ¨सह समेत 10 नामजद व इतने ही अज्ञात हैं। मृतक के पिता बाकेश्वर ¨सह द्वारा दर्ज करायी गयी प्राथिमकी के बाद थानाध्यक्ष संजीव मौआर ने दो नामजदों नवल ¨सह व रौशन कुमार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। दर्ज प्राथमिकी में घटना का कारण चुनावी रंजिश बताया गया है। अन्य आरोपियों की तलाश के लिए छापामारी की जा रही है।

बताया जाता है कि आरोप है कि चुनाव में मृतक मुखिया प्रत्याशी पप्पु ¨सह का मतदान अभिकर्ता था। उसने बोगस वो¨टग को रोक रखा था। जिससे गांव के मुखिया प्रत्याशी विपिन ¨सह के समर्थक नाराज थे। मतदान समाप्ति के बाद करीब 5.30 बजे मृतक ¨टकू अपने घर की छत पर बैठकर परिजनों व अन्य ग्रामीणों के साथ बातें कर रहे थे कि बगल की छत पर बैठे विनय ¨सह,विपीन कुमार,रंजीत कुमार,ओंकार ¨सह,दिनेश ¨सह,उमेश ¨सह,पंकज ¨सह,विकास कुमार,नवलेश ¨सह,रौशन कुमार व कुन्दन कुमार समेत अन्य लोगों ने गाली देना आरंभ कर दिया। बात बढ़ी तब विरोधी पक्ष के लोग उसके घर पर चढ़ गये तथा किबाड़ में धक्का मारना आरंभ किया। किबाड़ नहीं खुलने पर उपर से विपीन कुमार ने रायफल से गोली चलाना शुरू कर दिया। एक गोली ¨टकू के सीने के उपरी भाग में लगी। जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया। ग्रामीणों के सहयोग से उसे नवादा ले जाया गया जहां प्राथमिक उपचार के बाद पटना ले जाने के क्रम में उसकी मौत बिहारशरीफ के पास हो गयी।

-------------

पूर्व में भी हुआ था हमले का प्रयास

नवादा : जानकार बताते हैं कि ¨टकू ¨सह व मुखिया प्रत्याशी पप्पु ¨सह पर दो दिनों पूर्व भी एनएच 31 पर हमला हुआ था। दोनों जब साथ जा रहे थे तब निशाना बनाकर बम फेंका गया था। लेकिन बम फट नहीं सका था। मंगलवार को मतदान के दौरान बूथ पर दोनों पक्षों के बीच विवाद हुआ था। मतदान समाप्ति के बाद तो उसकी हत्या ही हो गई।

-------------

मुआवजा व आरोपियों की गिरफ्तारी को किया एनएच जाम

नवादा : अकबरपुर थाना क्षेत्र के गंगटा गांव वासी ¨टकू ¨सह की मंगलवार की देर शाम गोली मार की गयी हत्या के मामले के अभियुक्तों की गिरफ्तारी व पीड़ित परिजनों को मुआवजा तथा विधवा को सरकारी नौकरी देने की मांग को लेकर बुधवार को ग्रामीणों ने राजमार्ग संख्या 31 को बरेव के पास पथ को घंटों जाम किया। अहले सुबह पथ को जाम किये जाने से राजधानी समेत दूर सफर करने वाले यात्रियों व उनके परिजनों को कठिनाईयों का सामना करना पड़ा। आक्रोशित परिजन विपीन ¨सह,नवीन ¨सह नवलेश ¨सह व उनके सेना में कार्यरत पुत्र की अविलम्ब गिरफ्तारी की मांग पर अड़े थे। जाम के कारण रजौली एसडीएम शंभुशरण पाण्डेय को पटना उच्च न्यायालय रास्ता बदलकर जाने को विवश होना पड़ा। बाद में रजौली भूति सुधार उपसमाहर्ता अखिलेश कुमार,एसडीपीओ उपेन्द्र कुमार यादव,सीओ निर्मल राम व थानाध्यक्ष संजीव मौआर के समझाने-बुझाने व हत्याभियुक्तों की गिरफ्तारी के आश्वासन के बाद जाम को वापस लिया जा सका। बता दें मंगलवार की देर शाम ¨टकु ¨सह की हत्या उस समय गोलीमारकर कर दी गयी थाी जब वे मतदान समाप्त होने के बाद मतदान केन्द्र से वापस अपने घर लौट रहे थे। इसके पूर्व मतदान अभिकर्ता के रूप में उन्होंने फर्जी मतदान का जमकर विरोध किया था जिससे दूसरे पक्ष के मुखिया प्रत्याशी व उनके समर्थक नाराज थे जो बाद में हत्या का कारण का बन गया। हालांकि घटनास्थल पर उनकी मौत नहीं हुई थी। ईलाज के क्रम में उन्होंने दम तोड़ा,लेकिन मौत के पूर्व वे अपना बयान कलमबंद नहीं करा सके थे।

---------------

बीडीओ ने दिया 20 हजार का चेक

-सड़क जाम कर रहे लोगों की मांगों के अनुरूप बीडीओ ने तत्काल पारिवारिक लाभ योजना के तहत 20 हजार रुपए का चेक तत्काल पीड़ित परिजनों को दिया। इसके अलावा विधवा को लक्ष्मीबाई सामाजिक सुरक्षा पेंशन देने का आश्वासन दिया। अन्य मांगों से वरीय अधिकारियों को अवगत कराने और हर संभव मदद का आश्वासन दिया गया।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस