नक्सलियों की टोह में थाना क्षेत्र के धमनी और फरका बुजुर्ग पंचायत के नक्सल प्रभावित इलाके में रविवार को दिन भर सर्च ऑपरेशन चलाया गया। एसटीएफ जवानों ने जंगल का चप्पा-चप्पा खंगाल डाला। हालांकि जवानों को देर शाम तक कोई सफलता हाथ नहीं लगी और उन्हें वापस लौटना पड़ा। थानाध्यक्ष सुजय विद्यार्थी ने बताया कि धमनी और हरका बुजुर्ग पंचायत के जंगली क्षेत्रों में नक्सलियों की चहलकदमी की सूचना मिल रही थी। इसके आलोक में एसटीएफ जवानों के साथ सर्च ऑपरेशन चलाया गया। लेकिन कोई सफलता हाथ नहीं लगी है। उन्होंने कहा कि नक्सलियों की तलाश में लगातार सर्च ऑपरेशन चलाया जाएगा। बताते चलें कि 20 दिसंबर की रात से ही धमनी के नक्सल प्रभावित इलाके में नक्सलियों की चहलकदमी बढ़ गई है और इन क्षेत्रों में हो रहे विकास के कार्यों से नक्सलियों ने लेवी की मांग शुरू कर दी थी। जिसके बाद क्षेत्र में नक्सलियों की घेराबंदी के लिए पुलिस के पदाधिकारी के द्वारा लगातार कोशिश की जा रही है। धमनी गांव में पुलिस पिकेट बनाया गया है ताकि इस क्षेत्र में चल रहे विकास के कार्य को नक्सली किसी भी रूप में अवरुद्ध ना कर सके। जानकार सूत्र बताते हैं कि नक्सल प्रभावित इलाके में हार्डकोर नक्सली प्रद्युम्न शर्मा अपने दस्ते के साथ इस क्षेत्र में इन दिनों जमा हुआ है और लेवी की वसूली के लिए ठेकेदार भट्ठे दार व अन्य कई लोगों से लेवी की मांग कर रहा है।

--------------------

4 बजे तक लोगों को जंगल छोड़ने का फरमान

- थाना क्षेत्र के धमनी पंचायत के जंगली इलाके में जंगल में काम करने वाले ग्रामीणों को नक्सलियों ने कड़ी चेतावनी दी है। कहा है कि शाम 4 बजे से पहले जंगल को छोड़ दें, अन्यथा अंजाम बुरा होगा। नक्सलियों ने लकड़ी लाने वाले को भी धमकी दी है। जंगल में अवैध रूप से शराब कारोबार करने वाले एक युवक को नक्सलियों ने शनिवार की देर शाम जॉब जलाशय के समीप पकड़कर उसकी पिटाई की। कहा जा रहा है कि उसे शाम में जंगल आने से मना किया था। हालांकि इसकी शिकायत पुलिस तक नहीं पहुंची है। लेकिन इन क्षेत्र में रहने वाले ग्रामीण अपने दबी जुबान से नक्सलियों की बर्बरता की बात कह रहे हैं। नक्सली की धमकी के बाद जंगल में काम करने वाले मजदूरों में दहशत व्याप्त हो गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस