नवादा : मगध प्रमंडलीय आयुक्त मयंक बरबड़े और पुलिस महानिरीक्षक अमित लोढ़ा ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए जिले के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। जिलाधिकारी यश पाल मीणा ने बैठक में उपस्थित रहे। जिले में बालू के अवैध खनन को रोकने तथा बालू माफिया पर शिकंजा कसने हेतु अभियान चलाने का निर्णय लिया गया। कमिश्नर ने डीएम-एसपी को निर्देश दिया कि आपस में समन्वय स्थापित कर बालू माफिया पर अंकुश लगाएं। इसके लिए 15 अगस्त तक विशेष अभियान चलाने का निर्देश दिया गया। जिला खनन पदाधिकारी को स्पष्ट निर्देश दिया कि जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन द्वारा पर्याप्त सहयोग दिया जाएगा। परंतु बालू का अवैध खनन एवं भंडारण पर पूरी तरह रोक लगाना सुनिश्चित करें। आइजी ने निर्देश दिया कि बड़े घाट जहां बालू की अवैध खनन एवं ढुलाई तथा भंडारण किया जा रहा है, उसे रोकने हेतु अपने सूचना तंत्र को और अधिक मजबूत करें। अवैध बालू के डंप व भंडारण पर भी छापेमारी आवश्यक है। साथ ही अवैध बालू भंडारण या ढुलाई के हॉटस्पॉट को चिन्हित कर जिला व पुलिस प्रशासन का भरपूर सहयोग लेकर सघन अभियान चलाएं। आयुक्त ने खनन पदाधिकारी को सख्त निर्देश दिया कि थाना स्तर से लेकर अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन का भरपूर सहयोग प्राप्त कर बालू माफिया के नेटवर्क को ध्वस्त करें तथा 24 घंटे के अंदर खनन पदाधिकारी बालू माफिया एवं उनके सहयोगी पर प्राथमिकी दर्ज कराना सुनिश्चित करेंगे। एक स्पष्ट संदेश जाए कि बालू माफिया एवं बालू के अवैध खनन पर कड़ी कारवाई की जा रही है। बालू के अवैध खनन की रोकथाम एवं भंडारण पर 15 दिनों के अंदर विशेष अभियान चलाकर बालू माफिया के विरुद्ध छापेमारी करते हुए सख्त कार्रवाई करें। जिलाधिकारी यश पाल मीणा ने बैठक में जानकारी दी कि वारसलीगंज क्षेत्र में तीन चेक नाका बनाया गया है, जहां से अधिकतर बालू निकाले जाते हैं। उन्होंने बताया कि 190 छापेमारी की गई है। मौके पर आपदा प्रभारी पदाधिकारी विश्वजीत उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran