नवादा। अनुमंडल मुख्यालय के एनएच 31 ग्राम छपरा मोड़ के समीप साहुल मोटर्स के सामने सड़क किनारे गड्ढे में विक्षिप्त व्यक्ति लगभग एक महीने से पड़ा हुआ है।जो अब अपने शरीर को भी हिला डुला नहीं पा रहा है। ग्रामीणों के अनुसार विक्षिप्त व्यक्ति के दाहिने हाथ में फ्रैक्चर भी संभावित है।

सड़क के दूसरे किनारे अवस्थित होटल संचालक नूनू सिंह ने बताया कि बहुत दिन पहले स्वास्थ्य विभाग को जानकारी देने के बाद एम्बुलेंस आया था। पर उसे उठाकर स्वास्थ केंद्र नहीं ले जाया गया। वो इसी तरह यहां महीनों से गिरा पड़ा है। होटल संचालक के द्वारा ही उसे खाना पानी दिया जा रहा है। लेकिन यहां की प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग उसे देखकर भी अनभिज्ञ बनी है। उसे देखने वाला भी नही है। और वह महीनों से इसी तरह गिरा पड़ा सांसे गिन रहा है। होटल संचालक एवं आसपास के गांव वालों ने कहा कि एंबुलेंस बुलाने के बाद अनुमंडल अस्पताल से आए एंबुलेंस के ड्राइवर व उसमें रहे सहायक ने कहा कि इसके साथ किसी को जाना पड़ेगा। लेकिन लेकिन किसी के साथ नहीं जाने के कारण एंबुलेंस वाले ने उसे वहीं छोड़कर चला गया। पुन: दो-तीन दिनों के बाद विक्षिप्त को ले जाने के लिए एंबुलेंस को बुलाया गया। लेकिन फिर से वही बात दोहरा कर एंबुलेंस वापस चली गई और उन लोगों के द्वारा बोला गया कि आप लोग भी फंस जाइएगा।तत्पश्चात कुछ लोगों के द्वारा पेट्रोलिग कर रही पुलिस को भी सूचना दी गई। लेकिन वह भी इधर-उधर करके और उसका मरने का इंतजार करने को बोल कर चला गया।आसपास के गांवों के लोगों ने बताया कि यहां के प्रशासन एवं पुलिस में इंसानियत नाम का कोई चीज नहीं है।जिसके कारण यह सड़क के किनारे महीनों से विक्षिप्त पड़ा हुआ है। ना तो इसका कोई से सुध लेने वाला है और ना ही इसका कोई इलाज करने वाला।अगर इसकी मौत होती है तो सारा जवाबदेही रजौली प्रशासन के ऊपर होगी। इधर प्रखंड विकास पदाधिकारी प्रेम सागर मिश्र कहते हैं कि हमें जानकारी नहीं थी। जानकारी मिली है विक्षिप्त पड़े व्यक्ति को अस्थल से उठाकर इलाज के लिए अनुमंडलीय अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप