नवादा। जिलाधिकारी यश पाल मीणा ने शनिवार को मंडल कारा का औचक निरीक्षण किया। इस क्रम में उन्होंने भवन निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता योगेन्द्र नाथ दूबे को जेल परिसर में जल जमाव की समस्या को दूर करने का निर्देश दिया। जेल के ओपीडी में इलाज के लिए 10 कैदी खड़े थे, लेकिन डाक्टर नजर ईमाम नहीं थे। जिलाधिकारी ने जेल अधीक्षक और जेलर को निर्देश दिया कि बीमार बंदियों को बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था सुलभ कराएं। उन्होंने हाई सिक्योरिटी सेल का भी निरीक्षण किया। जेल मैनुअल के अनुसार सभी व्यवस्था बहाल करने का निर्देश जेल अधीक्षक को दिया। डीएम ने बंदियों से भोजन आदि के संबंध में फिडबैक प्राप्त किया। जेल मेनू के अनुसार सभी बंदियों को भोजन, नाश्ता आदि उपलब्ध कराने को कहा गया। जिलाधिकारी ने रोगियों से फिडबैक प्राप्त किया और उनसे जेल आने का कारण पूछा। उन्होंने वकील के संबंध में जानकारी ली कि आपलोगों के पास वकील हैं या नहीं। वकील नहीं रहने पर नालसा से संपर्क कर वकील उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया। जेल में बंद हैं 1567 बंदी:

- अभी जेल में 1567 बंदी हैं। निरीक्षण के क्रम में किसी भी वार्ड में आपत्तिजनक समान नहीं पाया गया। सभी वार्डाें में जेल मैनुअल के अनुसार सारी व्यवस्था करने का निर्देश जेल अधीक्षक एवं जेलर को दिया गया। जेल परिसर में सभी जगहों पर सीसीटीवी लगाने का निर्देश दिया गया। जेल के दीवारों पर गांधीजी का संदेश, दहेज, बाल विवाह और मद्य निषेध का स्लोगन लिखने का निर्देश जेल अधीक्षक को दिया। महिला वार्ड में छोटे-छोटे बच्चों को भी दूध, अंडा, पौष्टिक आहार आदि देने का निर्देश दिया गया। सभी महिलाओं को सिलाई मशीन सिखाने का निर्देश दिया गया। सभी कैदी कोविड का टीकाकरण करा चुके हैं। जेल में बंद मजदूरों का श्रम विभाग से निबंधन कराने का निर्देश जेल अधीक्षक को दिया। निरीक्षण के दौरान सदर एसडीएम उमेश कुमार भारती, जेल अधीक्षक अभिषेक कुमार पांडेय, डीपीआरओ सत्येंद्र प्रसाद आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran