: केंद्र सरकार की ओर से कोरोना से बचाव को लेकर पूरे देश में लॉकडाउन कर दिया गया है। आमजनों को परिवार के साथ घर में रहने का निर्देश जारी किया गया है। और लोगों को एक-दूसरे से शारीरिक दूरी बनाये रखने की हिदायत दी गई है। लॉकडाउन के बीच जरूरत सामग्री की दुकानें व सरकारी कार्यालय को खोलने का निर्देश दिया गया है। लॉकडाउन में भी सरकारी अधिकारी व कर्मी ड्यूटी पर तैनात दिख रहे हैं।

गुरुवार की सुबह 10:30 बज रहे थे। दैनिक जागरण की टीम जिला पशुपालन विभाग कार्यालय पहुंची। जहां बर्ड फ्लू कोषांग कक्ष में जिला पशुपालन पदाधिकारी डॉ.तरुण कुमार उपाध्याय चिकित्सकों के साथ विभागीय कार्य कर रहे थे। और विभाग द्वारा संचालित योजनाओं पर चर्चा कर रहे थे। अधिकारी व चिकित्सक एक-दूसरे से शारीरिक दूरी बनाकर बैठे थे। अधिकारी की नजर जब जागरण टीम पर पड़ी तो उसने बैठाया। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन में भी विभाग के सभी चिकित्सक व कर्मी ड्यूटी पर तैनात हैं। और विभागीय कार्य के अलावा पशुपालकों को सुविधा प्रदान की जा रही है। इसके साथ ही राजकीय पशु चिकित्सालय में चिकित्सक व कर्मी 24 घंटे ड्यूटी पर तैनात हैं। अस्पताल आने वाले पशुपालकों को हरसंभव सहयोग किया जा रहा है।

---------------------------

टीकाकरण हुआ बाधित

- जिला पशुपालन पदाधिकारी ने बताया कि विभाग की ओर से पूरे जिले में ब्रुसेलोसिस टीकाकरण कार्यक्रम चलाया जा रहा था। आठ माह से उपर के बाछा-बाछी को टीका लगाना था। 20 मार्च से 15 अप्रैल तक टीकाकरण कार्य चलाया जाना था। 20 मार्च से टीकाकरण कार्य की शुरुआत की गई थी, लेकिन पूरे देश में लॉकडाउन होने के बाद टीकाकरण कार्य बंद कर दिया गया। 23 मार्च को पूरे जिले में पालतू कुत्तों को एंटी रेबिज वैक्सीन दिया जाना था। जिसे स्थगित कर दिया गया।

---------------------------

रैपिड रेसपांस टीम कर रही है काम

- जिला पशुपालन पदाधिकारी ने बताया कि जिले के सभी प्रखंड में बर्ड फ्लू के लिए रैपिड रेसपांस टीम का गठन किया गया है। प्रत्येक प्रखंड में चिकित्सक व कर्मी को शामिल किया गया है। कौआ की मौत होने पर टीम द्वारा प्रोपर डिस्पोजल किया जाता है। और उस स्थान को सेनिटाइज किया जाता है। इसके अलावा मुर्गी फार्म का निरीक्षण करने की जिम्मेवारी टीम को सौंपी गई है। निरीक्षण के बाद बर्ड फ्लू से संबंधित सैंपल आइएएचपी पटना भेजा जाता है। अब तक नवादा जिला से कुल 55 सैंपल आइएएचपी पटना भेजा जा चुका है।

---------------------------

आवारा पशुओं को चारा देने का कार्य जारी

- उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के बीच सड़क पर घूमने वाले आवारा पशुओं को चारा नहीं मिल पा रहा है। विभाग की ओर से एंबुलेंट्री भान से चिकित्सक व कर्मी आवारा पशुओं के बीच चारा व पानी वितरित कर रहे हैं। नगर परिषद क्षेत्र में मोहल्लों में घूम-घूमकर पशुओं को चारा उपलब्ध कराया जा रहा है। लॉकडाउन के बीच पशुओं को चारा व पानी वितरण कार्य निरंतर जारी रहेगा।

----------------------------

कहते हैं अधिकारी

- लॉकडाउन के बीच आवारा पशुओं को चारा व पानी उपलब्ध कराया जा रहा है। मुर्गा फार्म व दुकानों को सैनिटाइज कराया जा रहा है। मीट, मुर्गा, अंडा व मछली में किसी प्रकार की बीमारी नहीं है। लोग इसका सेवन कर सकते हैं। ऐसे लॉकडाउन से विभाग का कई कार्यक्रम बाधित हुआ है। कोरोना से बचाव को लेकर लोग घर से नहीं निकलें, और अपने परिवार के साथ घर में रहें। साथ ही एक-दूसरे से शारीरिक दूरी बनाकर रखें।

डॉ. तरुण कुमार उपाध्याय, जिला पशुपालन पदाधिकारी नवादा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस