नवादा : सरकार की ओर से आमजनों को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है। शहर से लेकर ग्रामीण इलाके के अस्पतालों में सुविधा उपलब्ध कराया जा रहा है। साथ ही उपस्वास्थ्य व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आदि का निर्माण कराया जा रहा है। आमजनों को सुविधा देने के लिए लाखों रूपये खर्च किए जा रहे हैं। बावजूद व्यवस्था में सुधार लेने का नाम नहीं ले रहा है। जिला मुख्यालय से सटे दो-तीन किलोमीटर की दूरी पर बसा भदौनी पंचायत में आमजनों के प्राथमिक उपचार के लिए पीएचसी तक की व्यवस्था नहीं है। भदौनी जिले का सबसे बड़ा पंचायत में गिनती होता है। इस पंचायत की आबादी करीब एक लाख है। ज्यादातर संख्या अल्पसंख्यक समाज की है। सरकारी स्तर पर पीएचसी की व्यवस्था नहीं रहने से लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। जागरण आपके द्वार कार्यक्रम के तहत दैनिक जागरण की टीम शुक्रवार को सदर प्रखंड के भदौनी पंचायत अंर्तगत रसूल नगर, मिल्लत कॉलोनी, गोंदापुर, केवट नगर, खरीदी बिगहा, लक्ष्मीपुर, सुदाम नगर, नरेंद्र नगर समेत अन्य गांव पहुंची। जहां लोगों से मिलकर समस्याओं की पड़ताल की गई। अधिकांश लोगों ने बताया कि इस पंचायत में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की व्यवस्था नहीं है। परिवार के सदस्यों की तबीयत खराब होने पर इलाज के लिए सदर अस्पताल व निजी अस्पताल लेकर जाना पड़ता है। अस्पताल नहीं रहने से काफी परेशानी उठानी पड़ती है।

-----------------------

उच्च विद्यालय की व्यवस्था नहीं

- पंचायत के लोगों ने बताया कि इस पंचायत में सरकारी स्तर पर एक भी उच्च विद्यालय नहीं है। और ना ही बालिका उच्च विद्यालय है। इसके कारण बच्चों को दसवीं की पढ़ाई के लिए दूसरे स्थान पर सरकारी व प्राइवेट स्कूल जाना पड़ता है। लड़के तो किसी तरह दूसरे स्थान पर जाकर पढ़ाई कर रहे हैं। लेकिन लड़कियों को दूसरे स्थान पर जाने में परेशानी होती है। लड़कियां उच्च शिक्षा से वंचित हो रही है। अगर समय रहते ध्यान नहीं दिया गया तो बेटियों का भविष्य अंधकारमय हो जाएगा।

------------------------

हर-घर, नल-जल का कार्य बेहतर

- ग्रामीणों ने बताया कि पंचायत के मुखिया द्वारा हरेक गांव में हर-घर, नल-जल योजना के तहत बेहतर कार्य किया गया है। गांव के हरेक घर में कनेक्शन दिया गया है। पानी सप्लाय का कार्य भी शुरू हो चुका है। पंचायत शतप्रतिशत इलाके में कार्य पूरा कर लिया गया है।

-----------------------

पीसीसी ढलाई व नाली का 75 फीसद हुआ कार्य

- ग्रामीणों ने बताया कि पंचायत के हरेक गांव में पीसीसी ढलाई व नाली का निर्माण कराया गया है। करीब 25 फीसद इलाके में कार्य बाकी है। साथ ही गोंदापुर में सड़कों पर सालोंभर नाली का गंदा पानी जमा रहता था। इस रास्ते से गुजरने वाले लोगों एवं वाहनों को पानी से होकर पार होना पड़ता था। जिसे मुखिया द्वारा जलनिकासी के लिए 1400 फीट नाला निर्माण कर समस्या से निजात दिलाया गया। इसके अलावा जलनिकासी के लिए रसूल नगर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास से शोभ मंदिर नाला तक 22 सौ फीट नाला निर्माण कार्य जारी है। साथ ही कब्रिस्तान की जमीन पर पौधरोपन का बेहतर कार्य किया गया है।