जासं,नवादा: देश के महाराष्ट्र, केरल समेत अन्य राज्यों में कोरोना की दोबारा वापसी से आमजन सहमे हैं। कई राज्यों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में निरंतर बढ़ोत्तरी हो रही है। कोरोना की कहर को देखते हुए केंद्र सरकार ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्री को दवाई के साथ कड़ाई बरतने का निर्देश जारी किया है। राज्य सरकार की ओर से जिला प्रशासन को कोविड-19 नियमों का पालन कराने का सख्त निर्देश दिया गया है। सरकार का निर्देश जारी होने के बाद कोरोना रोकथाम को लेकर टीकाकरण में तेजी भी लाया गया है। जिला प्रशासन की ओर से कोविड-19 नियमों का पालन कराने के लिए चौक-चौराहों पर ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम से लोगो को जागरूक किया जा रहा है। शहर के गली-मोहल्लों में प्रचार वाहन के माध्यम से लोगों के बीच जागरूकता फैलाई जा रही है। एसडीएम समेत अन्य अधिकारियों द्वारा दल-बल के साथ बाजारों मे घूम-घूमकर मास्क जांच अभियान चलाया जा रहा है। बस पड़ाव,

होटल, ढावा, यात्री वाहन समेत सार्वजनिक स्थलों की जांच की जा रही है। लेकिन आमजनों में जागरूकता अभियान का कोई असर नहीं दिख रहा है। बिना मास्क के लोग बाजारों में खुलेआम घूमते नजर आ रहे हैं। साथ ही सरकारी कार्यालय में भी इसका असर नहीं देखा जा रहा है। गुरुवार को करीब 12:30 बज रहे थे। सदर अस्पताल नवादा परिसर में प्रवेश किया तो देखा कि रजिस्ट्रेशन काउंटर व आस-पास कई लोग खड़े थे। आगे बढ़ा तो ओपीडी कक्ष के बाहर इलाज कराने के लिए मरीजों की लाइन लगी थी। अधिकांश लोग बिना मास्क लगाए थे। कक्ष में चिकित्सा पदाधिकारी डॉ.श्रीकांत प्रसाद बैठे थे। जहां इलाज के खड़े तीन में दो मरीज बिना मास्क लगाए थे। इसके बाद सीएस कार्यालय जब पहुंचा तो बिना मास्क लगाए कर्मचारी कार्य में व्यस्त दिखे। डॉ.श्रीकांत प्रसाद ने बताया कि कोविड-19 का सर्दी-खांसी प्रमुख लक्षण है। विभाग की ओर से वैसे मरीजों को कोविड-19 जांच करवाने का निर्देश जारी किया गया है। अस्पताल आने वाले हरेक लोग को मास्क लगाने व शारीरिक दूरी का पालन करने की नसीहत दी जा रही है। सर्दी-खांसी रहने पर मरीजों को कोविड-19 जांच कराने की सलाह दी जा रही है। लेकिन जांच कराने से कतराते हैं। लोगों का कहना है कि जो लोग संक्रमित नहीं है। आपलोग जांच करवाकर

संक्रमित कर देंगे। इसके अलावा शहर के कई स्थानों का जायजा लिया गया।

------------------------

समाहरणालय के पास भी नियम का पालन नहीं

- कोविड-19 से बचाव को लेकर जिला प्रशासन की ओर से आमजनों को नियमों का पालन करने के लिए लगातार जागरूक किया जा रहा है। लेकिन लोगों पर कोई असर नहीं दिख रहा है। समाहरणालय जैसे स्थानों के पास भी लोगों द्वारा नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है। जबकि समाहरणालय गेट पर सुबह के दस से पांच बजे तक

पुलिस बल ड्यूटी पर तैनात रहते हैं। जिलाधिकारी समेत अन्य अधिकारियों के वाहन भी गुजरते हैं। इन स्थानों पर लोगों की भीड़-भाड़ रहती है। लेकिन समाहरणालय गेट से लेकर रैन बसेरा तक बिना मास्क के लोग घूमते दिखे।

--------------------------

बाजारों में भी नहीं दिखा असर

- नगर के प्रजातंत्र चौक, विजय बाजार, मेन रोड, पुरानी कचहरी रोड, अस्पताल रोड समेत अन्य स्थानों पर भी जागरूकता अभियान को कोई असर नहीं दिखा। इन स्थानों पर सुबह से देर रात तक लोगों की भीड़-भाड़ लगी रहती है। साथ ही लोगों का आना-जाना लगा रहता है। लेकिन इन इलाकों में बिना मास्क लगाए लोग घूमते दिखे। सामान्य दिनों की तरह लोग जगह-जगह खड़े होकर बातचीत कर रहे थे। वहीं दुकानदार भी बिना मास्क लगाए दिखे। जिला प्रशासन की ओर से प्रजातंत्र चौक पर ध्वनि विस्तारक यंत्र लगवाकर नियमों के प्रति जागरूक किया जा रहा है। बावजूद लोगों पर कोई असर नहीं पड़ रहा है। अगर लोग सजग नहीं हुए तो थोड़ी सी लापरवाही भारी पड़ सकती है।