संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर की जयंती को लेकर शुक्रवार को बिन्देश्वरी चौधरी भवन में एक बैठक हुई। अध्यक्षता गणेश राजवंशी ने की। मंच का संचालन भीम आर्मी के प्रखंड उपाध्यक्ष सकलदेव मांझी ने किया। हिसुआ में सर्वसम्मति से 15 अप्रैल को बाबा साहब की जयंती मनाने का निर्णय लिया गया। इसके अलावे समाज उत्थान, अंधविश्वास एवं कुरीतियों पर चर्चा की गई। रामस्वरूप राजवंशी ने कहा कि बाबा साहब के सपनों को हमें साकार करना है। अंधविश्वास व छुआछूत आदि के खिलाफ संगठित होकर एक शिक्षित समाज बनाना होगा और लोगों में वैज्ञानिक चेतना जगाना होगा। धर्मेन्द्र चौधरी ने कहा कि बाबा साहब ने शिक्षित बनो, संगठित हो और संघर्ष करो का मूलमंत्र दिया था, जिसे समझना होगा। आज भी समाज के लोग शिक्षित नहीं हैं, जिस कारण संगठित नहीं हो पाते हैं। अशिक्षा के कारण हम अपने हक और जरूरतों के लिए संघर्ष नहीं कर पाते हैं। मौके पर धर्मेन्द्र राजवंशी, मुकेश कुमार, गोरेलाल मांझी, सुनील कुमार, शंकर चौधरी, अजय कुमार, देवन रविदास, सकिचन्द दास, टिकू चौधरी, नवीन रविदास, दीनबंधु मांझी, उपेंद्र कुमार, सुबोध रजक, मुसाफिर, छोटन चौधरी, शैलेन्द्र राजवंशी, भूषण कुमार, लखन राजवंशी आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप