मोहल्ले की गलियों में जगह-जगह गंदगी का अंबार, नाला जाम व जलजमाव नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड नंबर-31 की पहचान बनी हुई है। नियमित साफ-सफाई नहीं होने से गलियों में कचरा पसरा रहता है। जागरण आपके द्वार कार्यक्रम के तहत रविवार को जागरण की टीम वार्ड नंबर-31 पहुंची। जहां लोगों की समस्याओं की पड़ताल की गई। अधिकांश लोगों की समस्या एक जैसी सुनने को मिली। लोगों ने बताया कि मोहल्ले में नियमित साफ-सफाई नहीं होती है। सफाई कर्मी सप्ताह में मात्र एक से दो दिन आते हैं। सफाई के नाम पर महज खानापूर्ति की जाती है। जिसके कारण गंदगी का अंबार लगा रहता है। कचरे की सड़ांध से घर से निकलना मुश्किल हो गया है। नाली हमेशा जाम रहता है। बारिश होने पर नाली का गंदा पानी सड़कों पर बहने लगता है। मच्छरों का प्रकोप भी काफी बढ़ गया है। बीमारी फैलने की आशंका बनी रहती है।

--------------------

जल निकासी की व्यवस्था नहीं

- लोगों ने बताया कि जल निकासी के लिए बनाया गया नाला की कई साल से सफाई नहीं हुई है। नाला जाम पड़ा है। बारिश होने पर नाली का गंदा पानी गलियों में बहने लगता है। गलियों में जलजमाव की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। इसके अलावा कब्रिस्तान की चहारदिवारी के बगल में नाली का गंदा पानी जमा हो जाता है। गंदा पानी कब्रिस्तान के अंदर प्रवेश कर जाता है।

---------------------

पेयजल का भी है संकट

- लोगों ने बताया कि जलस्तर में गिरावट आने से मोहल्ले में लगा कई सरकारी चापाकल खराब पड़ा है। घर में लगा चापाकल से भी पानी गिरना बंद हो गया है। हर-घर नल-जल योजना के तहत करीब 70 फीसद इलाके में पाइप बिछाया गया है। लेकिन पानी सप्लाइ का कार्य शुरू नहीं किया गया। पेयजल के लिए दूसरों के घर व अन्य स्थानों से पानी लाना पड़ रहा है। सुबह उठते ही पेयजल की चिता सताने लगती है।

----------------------

नहीं है पर्याप्त लाइटें

- लोगों ने बताया कि मोहल्ले में रोशनी के लिए पर्याप्त लाइटें नहीं है। शाम होते ही गलियों में अंधेरा पसर जाता है। रात्रि में गलियों से आने-जाने में काफी परेशानी होती है। इसके साथ ही अप्रिय घटना होने की भी आशंका बनी रहती है।

----------------------

कहते हैं लोग

- मोहल्ले की नियमित साफ-सफाई नहीं होने से गलियों में जगह-जगह गंदगी का अंबार लगा रहता है। नाली हमेशा जाम रहता है। सफाई कर्मियों द्वारा केवल खानापूर्ति की जाती है। गंदगी के कारण मच्छरों का प्रकोप भी काफी बढ़ गया है। बीमारी फैलने की भी आशंका बनी रहती है।

जफर इकबाल,अंसार नगर। फोटो-11.

----------------------

- नाला की कई साल से सफाई नहीं हुई है। जल निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है। बारिश होने पर नाली का गंदा पानी गलियों में जमा हो जाता है। कब्रिस्तान की चहारदिवारी के बगल में जलजमाव की स्थिति बनी रहती है। इसके साथ ही कब्रिस्तान के अंदर गंदा पानी प्रवेश कर जाता है।

नूरजहां खातुन, अंसार नगर।फोटो-12.

-----------------------

- जलस्तर में गिरावट आने से मोहल्ले में लगा कई सरकारी चापाकल खराब पड़ा है। घर में लगा चापाकल से पानी गिरना बंद हो गया है। हर-घर नल-जल योजना के तहत 70 फीसद इलाके में पाइप बिछाया गया है। लेकिन पानी सप्लाइ शुरू नहीं किया गया। पेयजल के लिए इधर-उधर से पानी लाना पड़ता है।

मुस्ताक आलम,अंसार नगर।फोटो-13.

-----------------------

- मोहल्ले की गलियों में पर्याप्त लाइटें नहीं लगाई गई है। शाम होते ही गलियों में अंधेरा छा जाता है। रात्रि में गलियों से आने-जाने में काफी परेशानी होती है। अप्रिय घटना होने का भय भी सताता रहता है। पार्षद को इस पर ध्यान देना चाहिए।

आयशा खातुन,अंसार नगर। फोटो-14.

------------------------

कहते हैं वार्ड पार्षद

- वार्ड के विकास के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। मोहल्ले की नियमित साफ-सफाई कराई जाती है। करीब दस दिनों से सफाई कर्मियों की कमी के कारण परेशानी हो रही है। नप कार्यालय द्वारा समय से सफाई कर्मियों को नहीं भेजा रहा है। जल निकासी की समस्या है, इसे दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। कार्यपालक पदाधिकारी से इसकी शिकायत की गई है। जलस्तर में गिरावट आने से पेयजल की समस्या लोगों को हो रही है। हर-घर नल-जल योजना के तहत 70 फीसद इलाके में पाइप बिछाया गया है, जल्द ही सप्लाई शुरू किया जाएगा। गलियों में खराब पड़े लाइटों को बहुत जल्द बदला जाएगा।

शाजदा खातुन, वार्ड पार्षद। फोटो- 15.

----------------------

एक नजर वार्ड

जनसंख्या-करीब 10 हजार।

मतदाता- 29 सौ।

विद्यालय- उच्च विद्यालय-02. प्राथमिक विद्यालय-01.

आंगनबाड़ी-03.

संसाधन- सफाई कर्मी-05.

ट्रॉली- 02.

ट्रैक्टर- 00.

Posted By: Jagran