भाकपा माले कार्यकर्ताओं ने सोमवार को शहर में राष्ट्रव्यापी विरोध मार्च निकाला। राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर की जगह बेरोजगारों को राष्ट्रीय रजिस्टर बनाने की मांग को लेकर मार्च निकाला गया। अंबेडकर पार्क से निकलकर शहर के प्रमुख मार्गों से होते हुए सभी नगर के प्रजातंत्र चौक पहुंचे और यूपी के मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। एनआरसी का विरोध करने पर आंदोलनकारियों पर यूपी में मुकदमा दर्ज होने से भाकपा कार्यकर्ताओं में आक्रोश है। इस दौरान केंद्र और यूपी सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

भाकपा माले के जिला सचिव नरेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा केंद्र सरकार देश के लोगों को झूठ बोलकर गुमराह कर रही है। महंगाई, भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए एनआरसी लाया गया है, जो पुर्णरुपेण गरीब अल्पसंख्यक विरोधी काला कानून है। सरकार इसे अविलंब वापस ले। उन्होंने 8 जनवरी को अखिल भारतीय एक दिवसीय ट्रेड यूनियन के आम हड़ताल व भारत बंद को सफल बनाने के लिए का आह्वान किया। इंकलाबी नौजवान सभा के संयोजक भोलाराम ने कहा कि बेरोजगारों को प्रत्येक माह दो करोड़ रोजगार देने के बजाए युवाओं के हाथों त्रिशुल, तलवार थमा दिया गया है। शिक्षा रोजगार के सवाल पर आंदोलन कर रहे युवाओं पर दमन कर लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है। उन्होंने राष्ट्रीय रजिस्टर के बजाए बेरोजगारों के लिए राष्ट्रीय रजिस्टर बनाने की मांग की। मौके पर अजीत कुमार मेहता, किसान महासभा के किशोरी प्रसाद, दिलीप कुमार, सुदामा देवी, सावित्री देवी, अनुज प्रसाद, मंटू कुमार, अर्जुन पासवान, वाल्मिकी राम, राजो चौधरी आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस