-----------------

संसू, हिसुआ : टीएस कॉलेज, हिसुआ में प्राचार्य और शिक्षक-

शिक्षकेतर कर्मचारियों के बीच विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार तीसरे दिन बुधवार को शिक्षकेतर कर्मचारी कॉलेज में प्राचार्य कक्ष के सामने धरना पर बैठे रहे। नेतृत्व संघ के सचिव सच्चिदानन्द मिश्रा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रोन्नति एवं कॉलेज की समस्या को लेकर 6 जनवरी को शिक्षकेतर कर्मचारी प्राचार्य से मिलने उनके कक्ष गए थे। इस दौरान कर्मचारियों के साथ दु‌र्व्यवहार किया गया और उन्हें कक्ष से बाहर निकाल दिया गया। जिसके बाद कर्मचारियों ने उन्हें पांच घंटे तक बंधक बनाकर प्रदर्शन किया। इसके बाद प्राचार्य द्वारा एक शिक्षक सहित अन्य कर्मचारियों पर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई। झूठे मुकदमे में फंसाए जाने से आक्रोशित शिक्षकेतर कर्मचारी अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं। उनका कहना है कि जबतक विश्वविद्यालय से कोई पदाधिकारी नहीं आता है, धरना समाप्त नहीं होगा। उन्होंने यह भी कहा कि जिस प्रोफेसर डॉ. शैलेंद्र कुमार के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई गई है, उन्हें प्राचार्य चार जनवरी को ही महाविद्यालय से विरमित कर चुके हैं। छह जनवरी को वे जग जीवन कॉलेज में बतौर परीक्षक योगदान कर चुके हैं। बावजूद उनपर मुकदमा कराया गया। संघ के सचिव सच्चिदानंद मिश्रा ने कहा कि प्राचार्य बगैर छुट्टी लिए महीनों गायब रहते हैं। मौके पर अरविद कुमार त्रिपाठी, वीरेंद्र कुमार, रामविलास प्रसाद, अजय कुमार, चन्द्रभूषण, अनिल कुमार, रामाशीष कुमार सहित दर्जन भर शिक्षकेतर कर्मचारी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस