नवादा: सोमवार की दोपहर करीब एक घंटे तक हुई झमाझम बारिश के बाद मौसम खुशनुमा हो गया। बारिश के बाद लोगों को उमस भरी गर्मी से काफी राहत मिली है। लेकिन शहर की सड़कें कीचड़मय हो गई है। नगर बाजार की सड़कों पर जलजमाव होने से राहगीरों को पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है। सड़कों पर जगह-जगह बनी गड्ढों में बारिश का पानी जमा हो गया है। कई वार्ड के मोहल्लों की गलियों में कीचड़मय व जलजमाव की स्थिति बनी हुई है। नगर के विजय बाजार व स्टेशन रोड झील में तब्दील हो गया है। नाली का गंदा पानी सड़कों पर बह रहा है। इस रास्ते से गुजरने वाले राहगीरों को पानी में घुसकर पार होना पड़ रहा है। दो पहिया, चार पहिया समेत अन्य वाहनों को भी आने-जाने में परेशानी उठानी पड़ रही है। नगर के गोला रोड, पुरानी बाजार, सब्जी बाजार, पुरानी जेल रोड, थाना रोड आदि इलाके में जलजमाव व कीचड़मय स्थिति बनी हुई है। इस रास्ते से गुजरने वाले राहगीरों को पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है। इसके अलावा वार्ड के मोहल्लों में भी जलजमाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। इस समय कोरोना महामारी का दौर चल रहा है। शहर में कई लोग संक्रमण का शिकार हो चुके हैं। अगर समय रहते साफ- सफाई पर ध्यान नहीं दिया गया तो संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।

जलजमाव से आम लोगों को परेशानी : नगर परिषद हिसुआ के वार्ड संख्या 3 पांचू देवी स्थान मोहल्ले में जलजमाव के कारण लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। बताया जाता है कि 3 दिनों से हो रहे झमाझम बारिश से रास्ते में जल जमाव होने से लोगों को पानी से होकर ही आना जाना लगा रहता है। पानी का निकास नहीं होने के कारण रास्ता मिनी स्विमिग पूल में तब्दील हो गया है। मोहल्ले के छोटे-छोटे बच्चे वर्षा के समय उसमें स्नान का आनंद उठाने से बाज नहीं आते हैं। उक्त मोहल्ले के निवासी पारसनाथ कुमार, रक्षा सिंह , रामअवतार सिंह सहित दर्जनों मोहल्ले वासियों ने बताया कि जल का निकासी नहीं होने से बरसात के दिनों में मोहल्ले में रहना दूभर हो गया है। आए दिन वर्षा के जल से होकर ही आना जाना लगा रहता है। वर्षा के जल में कूड़ा कचरा के सड़ने से उठने वाला दुर्गंध मोहल्ले वासियों के लिए परेशानी का सवब बना हुआ है। इस संबंध में नगर परिषद कार्यालय में अनेकों बार आवेदन देने के बाद भी अब तक कोई भी कार्रवाई नहीं की गई है। लोगों ने बताया कि पानी की सड़ांध से कभी भी महामारी फैलने की आशंका बनी हुई है। नगर परिषद का ध्यान इस ओर नहीं जाने से मोहल्ले वासियों के बीच आक्रोश देखा जा रहा है। मोहल्ले वासियों ने बताया कि यदि नगर परिषद द्वारा जल निकासी का उचित व्यवस्था नहीं किया गया तो 15 दिनों के बाद मोहल्ले वासी नगर परिषद कार्यालय में अनिश्चितकालीन धरना पर बैठने का निर्णय लिया है। इस संदर्भ में नगर परिषद कार्यपालक पदाधिकारी डॉ मनीष कुमार से संपर्क नहीं होने के कारण प्रतिक्रिया नहीं मिली।

Edited By: Jagran