नवादा : ऑल इंडिया लॉयर्स एसोसिएशन फॉर जस्टिस के बैनर तले मांग दिवस के तहत नवादा के अधिवक्ताओं ने शनिवार को विरोध प्रदर्शन किया। कार्यक्रम का नेतृत्व एसोसिएशन के अध्यक्ष कृष्ण कुमार सिन्हा ने की। सर्वप्रथम कोरोना से मौत हुए लोगों के प्रति दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई। इसके बाद जुलूस निकालकर विरोध प्रदर्शन किया गया। इस दौरान अधिवक्ताओं ने हाथ में तख्ती लेकर कोविड 19 के कारण मौत के शिकार हुए वकील,मुंशी, लेखाकार, पेशकार, टाइपिस्ट समेत कानूनी पेशेवरों के परिवार को 30 लाख की अनुग्रह राशि तत्काल दो,आजीविका के साधनों को पुन: बहाल करो, कानूनी पेशेवरों के प्रति परिवार को 10 हजार रूपये मासिक अनूग्रह राशि महामारी तक देने की गारंटी करो, कोरोना में कानूनी पेशेवरों की विधवाओं, अनाथों के लिए व्यापक पुर्नवास पैकेज की घोषणा करो, अनुकंपा पर नौकरी देने की गारंटी करो आदि मांग सरकार से की गई। संघ के अध्यक्ष कृष्ण कुमार सिन्हा व महासचिव निरंजन कुमार सिंह ने संयुक्त रूप से कहा कि महामारी से संबंधित राहत प्रदान करने के उद्देश्य से अधिवक्ताओं को फ्रंटलाइन वर्कर्स के रूप में सरकार मान्यता दे। वर्ष 2020 से लगातार न्यायालय बंद रहने के कारण अजीविका की भयंकर क्षति हुई है। इसकी भरपाई के लिए प्रत्येक माह महामारी तक 10 हजार रूपया अनुग्रह राशि प्रदान करे। साथ ही विधवा व अनाथ हुए बच्चों के व्यापक पुर्नवास की गारंटी करते हुए 30 लाख रूपया मुआबजा राशि का भुगतान किया जाय। एसोसिएशन

की ओर से प्रधानमंत्री को पत्र भेजा गया। मौके पर अधिवक्ता सुरेन्द्र कुमार प्रसाद, बरकातुल्ला खान, नीरज कुमार, उपेन्द्र प्रसाद शर्मा, रामचंद्र पासवान, तेजनारायण् यादव, मो. अतहर हुसैन, रंजीत कुमार, राकेश कुमार, अमित कुमार मिश्रा, वहिदुल्ला हसन व मो.आविद समेत लिपिक गौरीशंकर पासवान आदि शामिल थे।

Edited By: Jagran