जिले के नक्सल प्रभावित कौआकोल थाना क्षेत्र के भंडारी गांव में मंगलवार रात कथित रूप से कोरोना को लेकर की गई गलत बयानबाजी को लेकर दो पक्ष आपस में भिड़ गए। देखते ही देखते दोनों पक्षों में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई और रोड़ेबाजी होने लगी। घटना की सूचना पर पकरीबरावां के एसडीपीओ मुकेश कुमार साहा, थानाध्यक्ष मनोज कुमार, सीओ सुनील कुमार, बीडीओ संजीव कुमार झा एवं एसआइ अखिलेश सिंह दल बल के साथ मौके पर पहुंचे और स्थिति को नियंत्रित किया।

थानाध्यक्ष ने बताया कि मंगलवार रात सूचना मिली कि दो पक्षों के लोग लॉकडाउन का उल्लंघन करते हुए आपस मे उलझ कर घटना को सांप्रदायिक रंग देना चाह रहे हैं। जिसके बाद त्वरित कार्रवाई कर प्रशासनिक टीम द्वारा स्थिति को नियंत्रित करते हुए दोनों पक्षों से आठ-आठ लोग को गिरफ्तार कर थाना लाया गया। उन्होंने बताया कि इस घटना में कौआकोल थाना कांड संख्या-138/20 दर्ज करते हुए दोनों पक्षों से 32 लोगों के विरुद्ध नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई है। जिसमे दोनों पक्षों से आठ-आठ लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। थानाध्यक्ष में बताया कि जेल जाने वालों में प्रथम पक्ष से कौआकोल थाना क्षेत्र के भंडारी गांव निवासी मोहम्मद मकसूद आलम, सहादत उद्दीन, मोहम्मद तौहीद आलम, मोख्तार मियां, मोहम्मद मसूद, तेलहट्टा धमनी गांव निवासी मोहम्मद इस्माईल, काशीचक थाना क्षेत्र के जमुआवां गांव निवासी मोहम्मद कामरान आलम तथा नवादा बुन्देलखण्ड थाना क्षेत्र के अंसारनगर निवासी जफ्फर इकबाल जबकि दूसरे पक्ष से भंडारी गांव निवासी राजकुमार यादव,कपिल यादव, विमल साव, रंजीत यादव, त्रिलोकी यादव, दिनेश यादव, अशोक यादव तथा शंकर यादव के नाम शामिल हैं। थानाध्यक्ष ने कहा कि घटना के बाद स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है तथा अफवाह फैलाने वाले असमाजिक तत्वों पर पुलिस की पैनी नजर है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस