शेखपुरा। शेखपुरा की एक अदालत ने पुलिस के दो सहायक अवर निरीक्षकों के खिलाफ गिऱफ्तारी वारंट जारी करने का आदेश दिया है। यह आदेश सोमवार को जिले की एससी-एसटी अदालत के विशेष न्यायधीश ज्ञानेंद्र कुमार श्रीवास्तव ने जारी किया है। इसकी जानकारी एससी-एसटी अदालत के विशेष लोक अभियोजक चंद्रमौलेश्वर यादव ने दी। यादव ने बताया कि दलित उत्पीड़न के एक पुराने मामले में अदालत में गवाही नहीं देने पर अदालत ने कार्यवाही की है। पुलिस के जिन दो सहायक अवर निरीक्षकों के खिलाफ गिऱफ्तारी वारंट जारी किया है उनमें देव कुमार और जवाहर प्रसाद का नाम शामिल है। विशेष लोक अभियोजक ने बताया कि यह मामला जिले के बरबीघा थाने में दर्ज दलित उत्पीड़न के मामले 247/2012 से जुड़ा हुआ है। बताया गया कि बरबीघा थाना के रामजानपुर गांव में दशहरा मेला के दौरान एक दलित के साथ मारपीट की गई थी। इसमें जांच अधिकारी होने के दोनों पुलिस अधिकारियों को कोर्ट में बयान दर्ज कराना है। गवाही के लिए दोनों पुलिस अफसरों को कई बार सम्मन भेजा जा चुका है। बताया गया कि दोनों पुलिस अफसरों का काफी पहले जिले से दूसरी जगह तबादला हो चुका है और ये दोनों अधिकारी जिले में पदस्थापित नहीं है।

Posted By: Jagran