शेखपुरा : सचमुच चितरंजन ने आज जिस काम को करने के लिए बीड़ा उठाया है वह वर्तमान परिप्रेक्ष्य में अद्वितीय काम है। लेकिन समाज में आज भी चितरंजन जैसे लोग मौजूद है जो उन गरीब बेटियों के हाथ को पीला करने में मदद करते है जिन्हें पैसे की कमी के चलते समस्या आती है। समाज की प्रगति के लिए चाहे वह किसी जाति व धर्म से क्यों ना आते हो उनके मदद के लिए ही हाथ बंटाना मानव का कर्तव्य है। उक्त बातें हथियामां गावं निवासी चितरंजन कुमार ¨सह ने जगत लक्ष्मी कन्यादान योजना के तहत नि:सहाय एवं गरीब परिवार के लड़कियों की शादी में मदद पहुंचाने के लिए अपनी ओर से सहायता राशि देने के अवसर पर पत्रकारों से कहीं। समरस सामज बनाने तथा उसके कल्याण के लिए हथियामा गावं निवासी चितरंजन इन दिनों जिले में ही नहीं बल्कि अन्य जिलों के गरीब तथा नि:सहाय परिवार के लोगों के बेटियों के हाथ पीले कराने में लगभग पच्चीस हजार रुपये की सहायता राशि चेक के माध्यम से पहुंचा रहे हैं। समाज की उन्नति के लिए के हौसले से परिपूर्ण चितरंजन के दरबार हथियामा में आने वाले हर नि:सहाय तथा गरीब परिवार को अपनी ओर से सहायता राशि प्रदान करते हैं। इस संदर्भ में चितरंजन ने पूछे गए सवाल के जबाव में बताया कि दौलत अर्जित कर सिर्फ अपनी शान-शौकत बढ़ाने से समाज को कुछ नहीं मिलने वाला है। जब समाज के गरीब तथा नि:सहाय लोग उन्नति के रास्ते पर चलेंगे तभी हमारी शोहरत बढ़ेगी। चितरंजन ने बताया कि गरीबों की मदद के लिए वे चौबीस घंटे संवेदनशील बने रहते हैं। उन्होंने बताया कि मेरा करोबार पड़ोसी राज्य झारखंड तथा अन्य राज्यों में विकसित है तथा सरकार की नजरों में भी कानूनी तौर पर मेरी पारदर्शिता साफ अंकित है। इधर चितरंजन कुमार ¨सह के द्वारा गरीबों के बेटियों के प्रति दरियादिली दिखाने के बाद जिला परिषद के उपाध्यक्ष रंजीत कुमार ¨सह उर्फ बद्धन भाई ने प्रसन्नता प्रकट करते हुए कहा कि अबतक लगभग दो सौ से ज्यादा नि:सहाय तथा गरीब परिवारों को आर्थिक मदद पहुंचाया गया है। आगे लगभग चार से पांच हजार ऐसे नि:सहाय तथा गरीब परिवारों की सहायता करने का लक्ष्य भी चितरंजन द्वारा निर्धारित किया गया है।

Posted By: Jagran