पश्‍च‍िम चंपारण (बगहा), जासं। कोरोना की तीसरे लहर की आहट के बीच शुक्रवार को ओमान से एक युवक स्वदेश लौटा। लखनऊ एयरपोर्ट से गोरखपुर के रास्ते वह बगहा पहुंचा। युवक ने सजगता का परिचय देते हुए घर जाने से पूर्व सरकार के द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल के तहत शहरी पीएचसी पहुंचकर खुद की कोविड जांच कराई। नोडल पदाधिकारी डॉ. रणवीर सिंह की मौजूदगी में एंटीजन किट से दो बार युवक का परीक्षण किया गया। दोनों बार परिणाम निगेटिव आया। इसके बाद चिकित्सक समेत स्वास्थ्यकर्मियों ने राहत की सांस ली। युवक की आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट शनिवार की दोपहर प्राप्त हो जाएगी।

नोडल पदाधिकारी डॉ. सिंह ने बताया कि ओमान में कोविड की जांच में रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद युवक ने फ्लाइट पकड़ी व लखनऊ में उतरा। वहां से ट्रेन से गोरखपुर पहुंचा तथा गोरखपुर से बस की यात्रा करते हुए वह संध्या पहर बगहा पहुंचा। आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट यदि निगेटिव आती है तो भी युवक को कम से कम 14 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन किया जाएगा। साथ ही उसे कोविड के सभी प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। उल्लेखनीय है कि दक्षिण अफ्रीका से निकले ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड में है। बाहर से हर आने जाने वाले पर नगर बनी हुई है। युवक लौकरिया थाना क्षेत्र के एक गांव का निवासी नरेंद्र काजी है। वह कई वर्षों से ओमान में रहकर काम करता है।

आंगनबाड़ी सेंटर और एपीएचसी में हुआ कोरोना टीकाकरण

गोबद्र्धना।  स्थानीय एपीएचसी और आंगनबाड़ी केंद्रों पर शुक्रवार को कोरोना टीका लगाया गया। इनमें बनकटवा करमहिया व नौरंगिया दोन, परसौनी, मचंगवा, गुदगुदी, बगही सखुआनी पंचायत शामिल रहे। गांवों के आंगनबाड़ी सेंटरों पर भी टीका उपलब्ध कराया गया था। वहां चिकित्सक डॉ. राजेश्वर कुमार की देखरेख में टीका लगाया गया। टीकाकर्मियों ने इसमें आने वाले लोगों को एक एककर कोरोना का टीका दिया। इस बाबत रामनगर पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ चंद्र भूषण ने बताया कि शुक्रवार को परसौनी गुदगुदी, बगही सखुआनी, मंचगवा समेत दोन में आंगनबाड़ी और एपीएचसी केंद्रों में टीकाकरण हुआ। लोगों को सूचना भेजकर केंद्र पर बुलाने का निर्देश है। आंगनबाड़ी सेविका और सहायिकाओं के सहयोग से पूरा करने की कोशिश जारी है।

Edited By: Dharmendra Kumar Singh