मधुबनी, जेएनएन। हर ओर उत्सव और उत्साह का माहौल। चिंता देश की, सूबे की...और गांव-समाज की। बुढ़ापा बाधा नहीं...दिव्यांगता लाचारी नहीं। स्कूलों में छुट्टी है, रोटी थोड़ी देर में भी पक जाएगी। आज मौका है वोट देने का...। पांच साल के लिए अपनी तकदीर लिखने का। यही तो है लोकतंत्र का महापर्व। झंझारपुर आज इसी उत्सव में डूबा है। हर ओर चुनावी शोर है। युवाओं में खूब उत्साह है।

 पहली बार वोट डालने वालों की तो मानो लॉटरी लगी हो। बुजुर्ग भी कहां पीछे रहने वाले। खूब जज्बा दिखा रहे। महिलाएं आधी आबादी का दमखम दिखाने पहुंच रहीं। बूथों पर वोटरों की लाइन है। अभी तो सिलसिला शुरू ही हुआ है, कारवां बढ़ता ही जाएगा। तकरीबन 27 लाख की आबादी वाला झंझारपुर पांच साल के लिए अपनी तकदीर लिखेगा। यहां के 18.52 लाख वोटर अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने को उत्सुक हैं। ये उन 17 प्रत्याशियों के भाग्य का निर्णय करेंगे, जो झंझारपुर लोकसभा क्षेत्र की सियासी जंग में जोर-आजमाइश कर रहे। एनडीए की ओर से जदयू के रामप्रीत मंडल तो महागठबंधन की ओर से गुलाब राय ताल ठोंक रहे। समाजवादी जनता दल (डेमोक्रेटिक) के देवेंद्र कुमार यादव भी जोर लगाए हैं। शेष 13 भी एड़ी-चोटी का जोर लगाए हैं। बाजी किसके हाथ लगेगी, कैलेंडर का 23 मई गवाह बनेगा।

 

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप