पश्चिम चंपारण, जागरण संवाददाता। अनलॉक तीन शुरू होने के साथ बाजार में लापरवाही दिखनी शुरू हो गई है। न लोग मास्क पहने दिखे और न दो गज की दूरी का ही ख्याल रखा। कोरोना के मामलों में कमी आने के साथ हीं अनलॉक की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बुधवार से अनलॉक तीन का शुभारंभ हो गया है। निर्देश के अनुसार सभी दुकानें खोल दी गई हैं। वहीं बाजार में भी भीड़ दिखाई दी। अब दुकानों के संचालन के लिए पहले से निर्धारित समय में भी वृद्धि कर दी गई है। दुकानें अब छह के बदले सात बजे तक संचालित होंगी। नाइट कफ्र्यू का समय रात्रि नौ बजे से सुबह पांच बजे तक कर दिया गया है। पुलिस की सख्ती भी कम हो गई है।

 हालांकि मामले कम होने के साथ अब लोगों में लापरवाही भी दिख रही है। जिसके कारण कोरोना के तीसरे लहर का खतरा बना हुआ है। बता दें कि अनलॉक को लोगों ने कोरोना का खत्म होना मान लिया है। जिसके कारण बाजार में बिना मास्क के ही सड़कों पर लोग दिख रहे हैं। वहीं भीड़ भाड़ में शारीरिक दूरी का अनुपालन भी नहीं किया जा रहा है। जिसके कारण इसके तीसरे वेरिएंट का खतरा बढ़ रहा है। ऐसे में लोगों के समझदारी से हीं इस पर काबू पाया जा सकता है।

तीसरी लहर दूसरे से भी खतरनाक

ऐसा माना जा रहा है कि कोरोना की तीसरी लहर दूसरे से भी खतरनाक है। इसको लेकर अगर लोग ऐसे ही लापरवाही बरतेंगे तो, इसको आने से नहीं रोका जा सकता है। यह अधिक प्रभावकारी होगा। बहुत लोग इसकी चपेट में आएंगे। कोरोना से बचाव और तीसरे लहर को रोकने के लिए सावधानी जरूरी है।

पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. चंद्र भूषण का कहना है कि कोरोना से बचाव के लिए मास्क लगाना, शारीरिक दूरी बनाकर रखना बहुत जरूरी है। इसके अलावा हाथों की साफ सफाई का भी ध्यान रखना होगा। टीका लेने के बाद भी इस प्रक्रिया को अपनाना जरूरी है। अपने बच्चों व घर के अन्य सदस्यों के लिए। इसके प्रभाव को कम करने का यही एकमात्र उपाय है। इसलिए लोगों को संभल कर रहना चाहिए। हालांकि कोरोना वैक्सीन को लेकर लोगों में जागरूकता आई है। पर, प्रोटोकॉल का पालन भी जरूरी है।

Edited By: Murari Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट