मुजफ्फरपुर : साहेबगंज में गंडक नदी का जलस्तर बढ़ने का सिलसिला तीसरे दिन शुक्रवार को भी जारी रहा। निचले भाग में रहने वाले लोग पलायन करने लगे हैं। जलस्तर बढ़ने से प्रखंड के माधोपुर हजारी, बंगरा निजामत, देवसर असली, पहाड़पुर मनोरथ, रुपछपरा, हुस्सेपुर तथा हुस्सेपुर रत्ती में भयावह स्थिति उत्पन्न हो चुकी है। बंगरा निजामत व माधोपुर हजारी पंचायत का सर्वाधिक हिस्सा पानी से घिरा है। एक तरफ बाढ़ का कहर तो दूसरी तरह बरसात के पानी ने लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। लोगों के घरों में पानी प्रवेश कर चुका है तथा प्रभावित लोग तिरहुत तटबंध पर शरण लेने पहुंच रहे हैं। छोटे- छोटे बच्चों व मवेशियों के साथ खुले आसमान के नीचे वर्षा का सामना कर रहे हैं। कुछ लोग अपना घर बंद कर सगे- संबंधियों के घर जा रहे हैं। बता दें कि वाल्मीकिनगर बराज से पानी छोड़े जाने से गंडक का जलस्तर बढ़ गया है। हालांकि प्रशासन ने इन गांव के लोगों को सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए अलर्ट कर रखा था। बावजूद ये लोग अपने घरों को छोड़ने को तैयार नहीं थे। पानी बढ़ने से मवेशियों के चारा तथा उनके रखरखाव की समस्या बन गई है। प्रभावित लोग नाव के सहारे पानी से घिरे अपने आशियाने को को छोड़ तिरहुत तटबंध पर शरण लेने पहुंच रहे हैं। बता दें कि बंगरा निजामत की महादलित बस्ती में देवधर चैनल का बाध टूट गया था जिससे गाव का सड़क संपर्क भंग हो गया था। ऐसी स्थिति में लोग पानी हेल कर आने- जाने को मजबूर हैं। इस बीच, भाजपा नेता साहू भूपाल भारती ने हुस्सेपुर, पचरुखिया नयाटोला, माधोपुर हजारी आदि इलाके में बाढ़ पीड़ितों की सुध ली। सरकार से प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने व उनके बीच राहत कार्य प्रारंभ करने की मांग की है। साथ ही सामुदायिक किचेन, पशुओं का चारा व सरकारी नाव उपलब्ध कराने की मांग की गई है।

कई घरों में घुसा वाया नदी का पानी

पारू (मुजफ्फरपुर): प्रखंड क्षेत्र से होकर गुजरने वाली वाया नदी के जलस्तर में वृद्धि होने से पानी कई घरों में घुस गया है। सरैया पंचायत के सरैया बाजार निवासी शैलेंद्र कुमार सिंह के अलावा कई अन्य लोगों के घर में पानी घुस गया है। दर्जनों घर पानी से बुरी तरह से घिर गए हैं जिससे लोगों की परेशानी बढ़ गई है।

Edited By: Jagran