मुजफ्फरपुर, जेएनएन। कोरोना काल में नियत समय पर विधानसभा चुनाव कराने को लेकर आयोग की तरफ से पूरी कवायद चल रही है। इसके तहत सभी बिंदुओं पर प्रशासनिक तैयारी तेज गति से की जा रही है। संक्रमण से बचाव को लेकर इस बार के चुनाव के लिए बूथों की संख्या बढ़ाई गई है, ताकि बूथों पर भीड़ नहीं लगे। जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी संजय कुमार मिश्रा ने बताया कि पूर्व से जिले में 3225 मतदान केंद्र थे। लेकिन आयोग के निर्देश के अनुसार जहां एक हजार से अधिक मतदाता है उन बूथों पर सहायक मतदान केंद्र बनाए गए है।

 इसके तहत जिले में 1469 सहायक मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इन सभी के बारे में सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ गत दिनों बैठक कर अवगत भी कराया जा चुका है। जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि मतदान के दौरान संक्रमण से बचाव को लेकर निर्धारित मापदंड का पूरी तरह से अनुपालन कराया जाएगा। जिसके तहत मास्क का इस्तेमाल व शारीरिक दूरी बनाकर वोट डाले जाएंगे। सभी मतदान केंद्रों पर सैनिटाइजर की व्यवस्था की जाएगी। 

प्रत्याशियों को खोलना होगा नया बैंक खाता

विधानसभा चुनाव में शामिल होने वाले प्रत्याशियों के लिए नया बैंक खाता खोलना अनिवार्य कर दिया गया है। चुनाव आयोग ने इस संबंध में सभी जिला निवार्चन पदाधिकारियों को पत्र भेजा है। कहा गया है कि विधानसभा चुनाव में खड़े होने वाले प्रत्याशियों को नया बैंक खाता खुलवाना होगा। चेक बुक भी इश्यू कराना होगा और इसी से उनको लेन-देन करना होगा। ऐसा इसलिए किया गया है कि चुनाव के दौरान खर्च का ब्योरा बैंक खाते की डिटेल पर आयोग जांच कर सके।

 जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी संजय कुमार मिश्रा ने पुष्टि करते हुए बताया कि आयोग के निर्देश के आधार पर इसे अनुपालन कराने की कार्रवाई की जाएगी। इधर, प्रशासन की तरफ से चुनाव डयूटी के लिए सभी विभागों से कर्मियों की सूची मांगी गई थी। कई विभागों से सूची भेज दी गई है। लेकिन अभी भी कई विभाग सूची नहीं दे पाए हैं। इस पर जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी ने कहा कि दो दिनों के भीतर अगर सूची नहीं भेजी जाती है तो संबंधित विभाग के प्रधान का वेतन स्थगित किया जाएगा। पूर्व में ही जिलाधिकारी द्वारा इसको लेकर निर्देश जारी किया गया था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस