सीतामढ़ी, जेएनएन। एक युवती काे उसके घर से अगवा करने आए बदमाशों ने विरोध करने पर उसकी अधेड़ मां को तलवार से काटकर मौत के घाट उतार दिया। महिला का सिर धड़ से अलग कर दिया और उसके पुत्र पर भी हमला किया जिससे वह जख्मी हो गया। बेटी को बचाने के लिए यह महिला अपराधियों से भिड़कर अपनी जान गंवा बैठी। थाना क्षेत्र के कोईली गोट गांव में इस घटना के बाद सनसनी फैल गई है। मृतका प्रेमा देवी (50)रामवृक्ष ठाकुर की पत्नी थी। स्वजनों के अनुसार, दोनों पक्षों में पूर्व से विवाद चल रहा है। इस सिलसिले में बथनाहा थाने में दो प्राथमिकी दर्ज है। अब मामला कोर्ट में है। केस उठाने के लिए अपराधी युवती का अपहरण कर दबाव बनाना चाहते थे।

 इस घटना में घायल मृतक के पुत्र नीतेश ठाकुर ने बताया कि दोनों मुकदमों में अपराधियों द्वारा सुलह करने की धमकी दी जाती थी। थानाध्यक्ष पंकज कुमार ने बताया कि नीतेश के बयान पर प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। उसमें पड़ोस के ही रामू शर्मा, शत्रुधन शर्मा, सुरेंद्र ठाकुर सहित नौ लोगों को नामजद किया गया है। थानाध्यक्ष का कहना है कि रामू शर्मा और मृतका के पति रामवृक्ष ठाकुर के बीच पूर्व से भूमि विवाद को लेकर कई मुकदमे न्यायालय में लंबित हैं। बीते सितंबर माह में उनकी पुत्री का अपहरण मामले में भी आरोपितों को अभियुक्त बनाया गया था। इससे वे लोग नाराज थे। गुरुवार दोपहर दोनों पक्षों की महिलाओं के बीच कहासुनी हो रही थी। इससे आक्रोशित आरोपितों ने घटना को अंजाम दिया।

 मिली जानकारी के अनुसार, रुपौली रुपहला पंचायत के कोइली गोट गांव में दोपहर करीब दो बजे दो मोटरसाइकिल पर सवार अपराधियों ने घर पर धावा बोला। मृतका की पुत्री काजल कुमारी के अनुसार, गांव के ही चचेरे भाई सुरेंद्र शर्मा व उसके पुत्र राजू कुमार, रामू कुमार, शत्रुघ्न शर्मा, राघवेंद्र कुमार, किशन कुमार और रामसोगारथ शर्मा के पुत्र कपिलेश्वर शर्मा आदि लोगों ने इस घटना काे अंजाम दिया। आरोपित उस युवती का अपहरण करने की नीयत से हरवे-हथियार से लैश होकर आए थे। वह महिला अपनी पुत्री को बचाने के लिए अपराधियों से भीड़ गई। इस घटना से पूरे गांव में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है। स्वजनों बेहाल हैं। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस